गीतकार फैज अनवर के बेटे फरजान ने चुनी यह राह हैरान हुए पिता `

0

मुंबई: ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘आओगे जब तुम’ और ‘तेरे मस्त मस्त दो नैन ‘ जैसी गीतों को लिखने वाले फैज अनवर के बेटे फरजान फैज ने संगीतकार बनने की राह चुनी है और फिल्म ‘वीरे की वेडिंग’ के दो गानों को सुरों से सजाया है।
गीतकार पिता का बेटे होने की वजह से फरजान से उम्मीदें भी ज्यादा हैं। उन्होंने कहा कि अगर वह गीतकार बनना पसंद करते तो निश्चित रूप से उनके पिता इसमें उनकी मदद करते, लेकिन उन्होंने अपने लिए अलग राह चुनी।

फरजान ने कहा, “मैंने गीत के बोल लिखने की ओर कभी ध्यान नहीं दिया। बोल लिखने के लिए काफी एकाग्रता और गहन चिंतन की जरूरत होती है। मेरे पिता ने मुझ पर किसी चीज को करने के लिए कभी भी दबाव नहीं बनाया। सौभाग्य से उन्होंने ही मुझे गिटार बजाते देखकर संगीत में जाने के लिए प्रोत्साहित किया।”

 फरजान ने अपने बयान में कहा, “उन्होंने आर.डी. बर्मन, नदीम श्रवण, अन्नू मलिक जैसे महान संगीतकारों के साथ काम किया है और उनके व्यापक अनुभव से मुझे अपने कौशल को संवारने में मदद मिली।”

फरजान ने फिल्म ‘वीरे की वेडिंग’ के दो गीतों ‘माइंडब्लोइंग’ और ‘ना कसूर’ को संगीत से सजाया है। फरजान की गायन में भी रुचि है। उन्होंने कहा कि वह अपने संगीत व गायन शैली को सुधारने के लिए गायन में प्रशिक्षण भी ले रहे हैं।

 

loading...
शेयर करें