ट्विटर अकाउंट हैक मामले की FBI ने शुरू की जांच, ओबामा समेत कई दिग्गजों के अकाउंट हुए थे हैक

अमेरिका में दिग्गजों के ट्विटर अकाउंट हैक करने के मामले की जांच शुरू हो गई है। इसकी जांच एफबीआइ कर रही है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, माइक्रोसाफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स और जो बिडेन समेत दर्जनों वीआइपी के ट्विटर अकाउंट हैक किए गए थे। इसके जरिये बिटकॉइन धोखाधड़ी को अंजाम दिया गया था। यह माना जा रहा है कि ट्विटर के ही कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत से इस हैकिंग को अंजाम दिया गया।

कानून प्रवर्तन एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टीगेशन (FBI) ने एक बयान में कहा, ‘चर्चित हस्तियों के ट्विटर अकाउंट्स पर नियंत्रण पाने के बाद हैकरों ने क्रिप्टोकरेंसी धोखाधड़ी को अंजाम दिया।’ एजेंसी ने लोगों से अपील की कि वे सजग रहें। हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि हैकरों ने अकाउंट धारकों की ओर से भेजे गए निजी संदेशों को देखने में सफल हुए थे या नहीं। इधर, ट्विटर ने कहा, ‘पासवर्ड तक हैकरों की पहुंच होने के साक्ष्य नहीं मिले हैं।’ अमेरिका में बुधवार को टेस्ला के सीईओ एलन मस्क, कान्ये वेस्ट, किम कर्दाशियां वेस्ट, वारेन बफेट, जेफ बेजोस, माइक ब्लूमबर्ग के ट्विटर अकाउंट को भी निशाना बनाया गया था। अमेरिका में इस तरह का यह सबसे बड़ा ऑनलाइन हमला माना गया है।

सांसदों ने ट्विटर से पूछा, कैसे हुई चूक

अमेरिका के दोनों प्रमुख दलों सत्तारूढ़ रिपब्लिकन पार्टी और विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के कई सांसदों ने ट्विटर की जवाबदेही तय करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस सोशल माइक्रोब्लॉगिंग साइट को यह बताना चाहिए कि उसकी सुरक्षा में कैसे चूक हुई?

130 अकाउंट को बनाया गया निशाना

ट्विटर ने गुरुवार को यह उजागर किया कि साइबर हमले के दौरान करीब 130 अकाउंट को निशाना बनाया गया। हैकरों ने ट्विटर के इंटरनल सिस्टम तक पहुंच बनाने के जरिये दिग्गजों के अकाउंट हैक किए।

अकाउंट बेचने का दिखा था विज्ञापन

दिग्गजों के ट्विटर अकाउंट हैक किए जाने से कुछ समय पहले एक मार्केट साइट पर एक विज्ञापन दिखा था। इसमें ना सिर्फ ट्विटर बल्कि नेटफिक्स और इंस्टाग्राम समेत दूसरे लोकप्रिय साइटों के यूजरों को अकाउंट बेचने का प्रस्ताव दिया गया था।

Related Articles

Back to top button