IPL
IPL

हो गया फाइनल, चंद दिनों में यूपी की जेल में बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी

मुख्तार को लेकर कई महीनों से यूपी सरकार और पंजाब सरकार के बीच टकराव चल रहा है। लेकिन अब खबर है कि 8 अप्रैल से पहले मुख्तार को यूपी की बांदा में शिफ्ट किया जा सकता है।

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के मऊ से बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी अब जल्द ही यूपी सरकार की गिरफ्त में होंगे। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी शिफ्ट किए जाने की प्रक्रिया चल रही है और बहुत जल्द मुख्तार अंसारी को अब यूपी के बांदा जेल में शिफ्ट किया जा सकता है। मुख्तार को लेकर कई महीनों से यूपी सरकार और पंजाब सरकार के बीच टकराव चल रहा है। लेकिन अब खबर है कि 8 अप्रैल से पहले मुख्तार को यूपी की बांदा में शिफ्ट किया जा सकता है।

पंजाब के अपर मुख्य सचिव गृह ने उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को पत्र लिखकर कहा है कि मुख्तार अंसारी की कस्टडी ट्रांसफर होते ही उसे यूपी की बांदा जेल भेज दिया जाएगा। पंजाब सरकार ने यूपी सरकार से 8 अप्रैल से पहले ही मुख्तार अंसारी को यूपी पुलिस के हवाले करने को कहा है। हालांकि चिट्ठी में मुख्तार अंसारी की 12 अप्रैल को पंजाब में एक मामले को लेकर सुनवाई की बात कही गई है। लेकिन अब यह सुनवाई वीडियो कांफ्रेंस ( Video conference ) के द्वारा की जाएगी।

मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है

पंजाब के अपर मुख्य सचिव गृह ने चिट्ठी में मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है और मुख्तार की सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजाम करने को कहा है। इसके साथ ही मुख्तार की मेडिकल व्यवस्थाएं मुहैय्या करने के लिए कहा गया है। वहीं पंजाब सरकार ने मुख्तार अंसारी की सेहत को लेकर भी चिंता जताई है। यही नहीं मुख्तार की शिफ्टिंग के लिए वाहन का बंदोबस्त करते वक्त उसकी मेडिकल रिपोर्ट का भी ख्याल रखने की बात की गई है।

पिछले महीने 26 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार से मुख्तार अंसारी को यूपी भेजने का फैसला सुनाया था। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को 2 हफ्ते का वक्त दिया था। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने मुख्तार अंसारी को किस जेल में रखा जाए इसका फैसला प्रयागराज की एमपी एमएलए ( MP MLA ) कोर्ट पर छोड़ दिया था।

यह भी पढ़े: Ajaz Khan के बाद अब Gaurav Dixit के घर पहुंची NCB, छपेमारी के डर से एक्टर फरार

Related Articles

Back to top button