सहारनपुर में पराली जलाने पर 16 किसानों के खिलाफ FIR, 4 गिरफ्तार

जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने गुरूवार को कहा कि किसान खेतों में धान और गन्ने की पराली जला रहे हैं. खेतों में पराली जलाने से जहां वायु प्रदूषण बढ़ रहा है,

सहारनपुर: उत्तर प्रदेश में सहारनपुर जिले के नकुड़ क्षेत्र में पराली जलाने के मामले में 16 किसानों के विरुद्ध प्राथमिक दर्ज की गयी है. इसमें चार किसान गिरफ्तार किये गये है.

जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने गुरूवार को कहा कि किसान खेतों में धान और गन्ने की पराली जला रहे हैं. खेतों में पराली जलाने से जहां वायु प्रदूषण बढ़ रहा है, वहीं भूमि की उपजाऊ क्षमता भी दिन प्रतिदिन कम हो रही है. पराली जलाने की घटनाओं को गम्भीरता से लेते हुए नकुड़ क्षेत्र में 18 प्रकरणों में 16 लोगों के विरूद्ध प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करते हुए चार किसानाे की गिरफ्तारी भी की गई है. इन किसानों पर दो लाख 52 हजार 500 रूपए का जुर्माना लगाया है. उन्होने किसानों को पराली जलाने के स्थान पर चारे के रूप में प्रयोग करने की सलाह दी है.

अधिकारी ने दिए निर्देश

सिंह ने किसानों का आह्वान किया कि पराली जलाने से मानव स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है, वहीं वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते भी इसका असर रोगियों पर ज्यादा हो सकता है. उन्होने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के लिए सभी की जिम्मेदारी है.
उन्होने कहा कि खेतों में पराली जलाने पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध के बावजूद कतिपय किसान पराली जलाने से परहेज नहीं कर रहे हैं.

धान की कटाई के बाद सरसों और गेहूं की फसलों की अगेती बुआई करने के लिए धान की कटाई का कार्य पूर्ण होने के बाद पराली और फानों में आग लगा देते हैं. खेत में पराली जलाने से मिट्टी का तापमान बढ़ जाता है. इससे मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कमजोर होने लगती है. वहीं पराली के धुएं से वातावरण भी विषैला हो रहा है. उन्होंने कहा कि जिस भी ग्राम पंचायत में पराली जलेंगी वहां के ग्राम प्रधान के विरूद्ध भी कार्रवाही की जायेंगी.

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट एवं उप जिलाधिकारी नकुड़ हिमांशु नागपाल ने बताया कि किसानों को खेतों में पराली न जलाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है. उन्होंने बताया की तहसील क्षेत्र में पराली जलाने की घटनाओं पर लगाम लगाई गई है.

यह भी पढ़े: मोदी ने की फ्रांस में आतंकी हमले की कड़ी निंदा, कहा- आतंक के खिलाफ जंग में भारत साथ

Related Articles

Back to top button