पहली बार मनमोहन सिंह की शरण में पहुंची बीजेपी, इस काम के लिए मांग रही मदद

नई दिल्ली। आगामी 16 जुलाई से संसद का मानसून सत्र शुरु होने वाला है। कहा जा रहा यह सत्र 10 अगस्त तक चलने वाला है। हमेशा देखा जाता है कि संसद में हंगामा होना आम बात है, इसीलिए इस सत्र को सफल बनाने के लिए मौजूदा केंद्र सरकार ने कांग्रेस से सहयोग मांगा है। सूत्रों की माने तो बीजेपी के नेता इन दिनों विपक्षी नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। इसी सिलसिले में राज्य मंत्री विजय गोयल ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से भी मुलाकात की है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इस सत्र में शांति बनाए रखने के लिए बीजेपी विपक्षियों की शरण में जा रही है।

सूत्रों के मुताबिक, इस मुलाकात के बारे में जानकारी देते हुए गोयल ने कहा है कि, इस मानसून सत्र के दौरान विपक्ष का सहयोग होना बहुत ज्यादा जरुरी है। साथ ही वह दूसरे विपक्षी नेताओं से भी मुलाकात करने की योजना बना रहे हैं, जिसके पश्चात वह इस सत्र को सफल बनाने का पूरा प्रयास करना चाहते हैं। जहां एक तरफ गोयल अपनी पूरी मेहनत लगा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने भी विपक्षी पार्टियों से अनुरोध किया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि इस सत्र को सुचारु रुप से चलाने में मदद करें।

यह भी पढ़ें: भाजपा ने कांग्रेस को लिया आड़े हाथों, सर्जिकल स्ट्राइक पर दिया मुंहतोड़ जवाब

बता दें, इस मानसून सत्र में केंद्र सरकार के कंधों पर करीब 18 बिल पास कराने की जिम्मेदारी है, और हम सब पिछले सत्रों सेे बखूब वाकिफ हैं कि कितना हंगामे भरा रहा था। हंगामों के चलते पिछले शीतकालीन सत्र में साल 2000 के बाद से सबसे कम काम हुआ था। कहा जा रहा है यह सत्र बीजेपी के लिए चुनौतीपूर्ण रहेगा कि इसमें सरकार अपनी सारी कोशिशों के चलते सभी लटके हुए बिल पास कराने की योजना बना रही है। जिसमें वह विपक्षी पार्टियों का सहयोग चाहती है। ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी इन बिल को पास करा कर राजनीतिक फायदा लेना चाह रही है। अब देखना यह है कि केंद्र की विपक्षियों से ये मुलाकात संसद में क्या रंग लाती है।

Related Articles