पहली बार मोहम्मद सिराज ( Mohammad Siraj ) ने झटके 5 विकेट, बताया ये राज

तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने अपनी सफलता के राज के बारे में बताते हुए कहा, "सबसे पहले मैं भगवान का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं कि मुझे खेलने का मौका मिला।

ब्रिस्बेन: मोहम्मद सिराज ( Mohammad Siraj ) ने ऑस्ट्रेलिया ( Australia ) के खिलाफ पहली बार टेस्ट मैच ( Test Match ) की एक पारी में पांच विकेट लिए। वह गाबा में एक पारी में पांच विकेट लेने वाले भारत ( India ) के पांचवें गेंदबाज बन गए हैं। सिराज ने ऑस्ट्रेलिया के साथ खेली जा रही चार मैचों की टेस्ट सीरीज में कुल 134.1 ओवर फेंके हैं जो भारतीय गेंदबाजों में सबसे ज्यादा हैं। वह इस सीरीज में अभी तक भारत के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। इसके अलावा मैदान पर उनकी फील्डिंग भी काफी चुस्त दिखी है।

सिराज की फिटनेस का राज

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन ( Brisbane ) में खेले  जा रहे चौथे दिन का खेल खत्म होने के बाद सिराज ने एक सवाल के जवाब में कहा, “मैं इसके लिए सोहम भाई (सोहम देसाई, स्ट्रैंग्थ एंड कंडीशनिंग कोच) का शुक्रिया अदा करता हूं, जिन्होंने मेरे लिए एक कार्यक्रम डिजाइन किया और मेरी ट्रेनिंग पर काम किया। फिटनेस काफी अहम है। मैंने लॉकडाउन से अपने आप पर काम किया है। मुझे उनसे नियमित कार्यक्रम मिल रहे हैं जो मैं लॉकडाउन ( Lockdown ) में फॉलो कर रहा था। मुझे अब पता चला कि फिटनेस ( Fitness ) कितनी जरूरी है, खासकर टेस्ट क्रिकेट में।”

मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड ( MCG ) पर सिराज ने टेस्ट पदार्पण किया था। उनका यह दौरा काफी भावुक रहा। आस्ट्रेलिया में आने के कुछ दिन बाद ही उनका पिता का निधन हो गया था, लेकिन वह क्वारंटीन में रहने के कारण पिता के अंतिम संस्कार में नहीं जा सके। इस दौरान उन्होंने नस्लीय टिप्पणी का भी सामना किया।

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: चौथे दिन सिराज और ठाकुर का रहा बोलबाला, अब जीत के लिए चाहिए इतने रन

सफलता के बारे में क्या बोले सिराज?

तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने अपनी सफलता के राज के बारे में बताते हुए कहा, “सबसे पहले मैं भगवान का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं कि मुझे खेलने का मौका मिला। यह मेरे पिता की इच्छा थी कि उनका बेटे खेले और पूरा विश्व उसको देखे। काश के वह होते और देख पाते तो वह काफी खुश होते। यह उनका आशीर्वाद है कि मैं पांच विकेट ले पाया। मेरे पास इसे बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं।”

सिराज ने कहा, “मैं काफी भाग्यशाली हूं कि मैं पांच विकेट ले सका। यह काफी मुश्किल स्थिति है। मेरे पिता नहीं हैं। मैंने अपने घर पर बात की, अपनी मां से बात की। उन्होंने मुझे प्रेरित किया। मुझे मजबूत किया। उनके समर्थन से मुझे मानसिक तौर पर काफी मजबूत की। मुझे लगता है कि पिता की इच्छा थी वो मुझे पूरी करनी हैं।”

यह भी पढ़ें: IND vs AUS: तो इस वजह से चौथे दिन का खेल जल्द खत्म हो गया

Related Articles