Flashback: खेल से उठा पर्दा, रास्ते में ही Mukhtar Ansari को उड़ाने की रची थी साजिश!

पटना: बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को मंगलवार को पंजाब के रोपड़ जेल से लाकर उत्‍तर प्रदेश के बांदा जेल में बुधवार की सुबह शिफ्ट कर दिया गया है। उसे बैरक नंबर 16 में सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में साधारण कैदी की तरह रखा गया है। पंजाब से यूपी लाते वक्त पुलिस को डर सता रहा था कि रास्ते में कही अनहोनी न हो जाए लेकिन पुलिस की मुस्तैदी से ऐसा नहीं हुआ और सफलता पूर्वक जेल भेज दिया।

आशंका जताई जा रही थी कि रास्त में कही गाड़ी न पलट जाए या मुख्तार (Mukhtar) की हत्या न हो जाए। इस आशंका और इससे जुड़े कयासों ने साल 2015 की एक घटना की याद लोगो को दिला दी। उस घटना के खुलासे में भी बिहार के एक बाहुबली विधायक ने एक अपराधी को 50 लाख रुपये में मुख्तार अंसारी को रास्ते में ही टपका देने की साजिश रची थी।

Mukhtar को उड़ने की इसने दी थी सुपारी

ज्ञात हो कि पूर्व में बिहार के भोजपुर जिले के एक विधानसभा क्षेत्र से एक बाहुबली विधायक थे वो मुख्‍तार को अपने रास्‍ते से हटाना चाहते थे। उन्‍होंने मुख्‍तार की हत्‍या की सुपारी बिहार की आरा जेल में बंद कुख्‍यात अपराधी लंबू शर्मा को दी थी। ये तब मुमकिन होता जब वो जेल से बाहर आता इसके लिए उसे जेल से भगाने की पूरी साजिश रची गई। 23 जनवरी 2015 को लंबू को न्‍यायिक हिरासत से भगाने के लिए आरा के सिविल कोर्ट परिसर में मानव बम का धमाका कराया गया। इस धमाके में एक जवान शहीद और 20 घायल हुए थे। कोर्ट में बम लाने वाली महिला भी धमाके में मर गई, ये महिला यूपी के बलिया की रहने वाली थी। बम धमाके के बाद कुख्यात अपराधी लंबू शर्मा और अखिलेश उपाध्याय फरार हो गए थे।

ये भी पढ़ें : Pakistan ने खड़ा किया रनों का अम्बार, Fakhar zaman ने फिर खेली शानदार पारी, Babar शतक से चूके

खेल से उठा पर्दा

इन दोनों के फरार होने के कुछ दिन बाद ही दिल्‍ली पुलिस ने उसे धर दबोचा। उसके पकड़े जाने के बाद बिहार, यूपी और दिल्‍ली पुलिस को उसके फरार होने का खुलासा हुआ। पता चला कि बिहार के बाहुबली विधायक के अलावा यूपी के बाहुबली बृजेश सिंह का भी हाथ था। खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने बताया भोजपुर जिले के बाहुबली विधायक नरेंद्र कुमार पांडेय उर्फ सुनील पांडेय ने एक अपराधी को 50 लाख रुपये में मुख्‍तार की हत्‍या करने की सुपारी दी थी। मुख्तार की हत्या के लिए साजिश रच उस अपराधी को जेल से भगाया गया था। लेकिन बदकिस्मती यह रही कि भागने के बाद भी अपराधी पकड़ा गया और पुरे खेल से पर्दा उठा।

ये भी पढ़ें : लड़की क्यों, लड़कों सी नहीं होती! इनके पास होता है पुरुषों से तेज दिमाग, Research का दावा

प्रेमिका का किया इस्तेमाल

पुलिस ने बताया है की सुनील पांडेय मुख्‍तार अंसारी को जेल से कोर्ट ले जाते समय बम धमाके में मार देने की साजिश रचे थे। लंबू शर्मा को जेल से भगाने में उसकी प्रेमिका नगीना को मानव बम बनाने की साजिश रची गई थी। नगीना को धोखे में रखकर यह काम करवाया गया और उसे पता नहीं था कि उसका इस्‍तेमाल मानव बम की तरह किया जाएगा। इस धमाके में अफरातफरी के माहौल में लंबू न्‍यायिक हिरासत से फरार हो गया, लेकिन फरारी जब लंबू शर्मा पकड़ाया तो पूरा खुलासा हुआ।

Related Articles