CPSE के मोनेटाइजेशन के लिए स्पेशल कंपनी बनाएंगी एफएम

नई दिल्ली : रिपोर्ट के मुताबिक वित्त मंत्रालय जल्द ही निजीकरण के लिए तैयार सेंट्रल पब्लिक सेक्टर के उमक्रमों (CPSE) की जमीन और गैर-प्रमुख संपत्तियों के ट्रांसफर और बाद में मोनेटाइजेशन के लिए एक कंपनी बनाने को मंत्रिमंडल की मंजूरी लेगा।

CPSE का मॉनेटिज़शन डिस इन्वेस्टमेंट का हिस्सा

इस कड़ी में निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग के सचिव तुहिन कांता पांडेय ने कहा कि इन संपत्तियों को संभालने के लिए कंपनी के रूप में एक विशेष इकाई की स्थापना की जाएगी, जिन्हें बाद में मोनेटाइज किया जाएगा।

पांडेय ने पीटीआई से इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि हम एक ऐसी कंपनी के बारे में बात कर रहे हैं, जो कई सालों तक रहेगी, जो अतिरिक्त भूमि और गैर-प्रमुख संपत्तियों के मॉनेटिज़शन में माहिर होगी। हम जल्द ही इसकी उम्मीद कर रहे हैं। हमें कैबिनेट की मंजूरी मिलने के साथ ही इसकी शुरुआत हो जाएगी।

उन्होंने कहा कि कुछ सीपीएसई का रणनीतिक विनिवेश होना है, और हमें लगता है कि जमीन का कुछ हिस्सा कंपनी के पास जाने लायक नहीं है और उन संपत्तियों का मौद्रिकरण किया जा सकता है। मंत्रिमंडल की मंजूरी के बाद वित्त मंत्रालय के अधीन आने वाले सार्वजनिक उद्यम विभाग (डीपीई) को संपत्ति मौद्रिकरण का काम सौंपा जाएगा।

आपको बता दें सरकार ने एक साल में BPCL, शिपिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, IDBI बैंक, BEML, पवन हंस, नीलांचल इस्पात निगम लिमिटेड की रणनीतिक बिक्री को पूरा करने का लक्ष्य बनाया है।

यह भी पढ़ें :

Related Articles