चुनाव से पहले किसानों को डाला जा रहा चारा, वापस किया जा रहा मुकदमा व जुर्माना

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में होने वाले 2022 विधानसभा चुनाव से पहले सत्ता में मौजूद बीजेपी और विपक्ष जोरो-शोरो से कड़ी मेहनत करने में जुटी हुई है। वहीं भारतीय जनता पार्टी भी इस समय पूरा ध्यान 2022 विधानसभा चुनाव पर केंद्रित किये हुए है। तैयारियों में जुटी बीजेपी का अब पूरा ध्यान किसानों को लुभाने में लगा हुआ है। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों की मन मांगी मुराद भी पूरी कर दी है।

सीएम योगी ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि फसल जलाने के कारण किसानों पर अब तक जो मुकदमा दर्ज हुआ है उसे अब सरकार वापस लेगी साथ ही उन पर लगा जुर्माना भी माफ़ कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि 2010 से बकाया रहे गन्ना मूल्य भुगतान को पूरा करने के बाद अब सरकार गन्ना मूल्य में बढ़ोतरी करने जा रही है। सभी संबंधित पक्षों से विमर्श कर बहुत जल्द इस बारे में घोषणा की जाएगी।

यहां तक के योगी सरकार ने अधिकारियों को साफ तौर पर निर्देश दिया है कि बिजली बिल बकाया होने के कारण एक भी किसान का कनेक्शन कतई न काटा जाए। साथ ही, किसानों को आश्वस्त करते हुए कहा है कि बिजली बिल बकाए पर किसान को ब्याज न देना पड़े इसके लिए ओटीएस स्कीम भी लाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि यह यूपी सरकार किसानों की है और खेत से खलिहान तक और बीज से बाजार तक, किसानों को जहां भी जरूरत होगी, सरकार साथ खड़ी है। नए पेराई सत्र के शुभारंभ की तिथि तय करते हुए सीएम ने कहा कि किसानों की मांग पर पश्चिम क्षेत्र में 20 अक्टूबर से चीनी मिलें प्रारम्भ हो जाएंगी, जबकि मध्य क्षेत्र में 25 अक्टूबर से मिलें चलेंगी।

Related Articles