3 साल से इस शख्स की जान के पीछे पड़ा कौआ, लेना चाहता है बच्चे की मौत का बदला

0

मध्यप्रदेश के सुमेला गांव का एक मजदूर शिव केवट एक कौए से काफी परेशान है. वो जब भी घर से बाहर निकलता है तो एक कौआ उस पर अटैक कर देता है. ऐसा एक या दो बार नहीं, बल्कि तीन साल से हो रहा है. कौआ हवा में उड़ते हुए आता है और चोच से सिर पर वार करता है.

कुछ कदम चलने के बाद ही कौए का झुंड या फिर कभी अकेला कौआ उन पर हमला करता है. ऐसा उनके साथ रोज होता है. वो शिव के बाहर बैठा रहता है और उनके बाहर निकलने का इंतजार करता है. जैसे ही शिव बाहर निकलता है तो कौआ हमला कर देता है.Times Of India से बात करते हुए केवट ने बताया कि तीन साल पहले उन्होंने एक कौए के बच्चे को बचाने की कोशिश की थी. लेकिन उसकी मौत हो गई थी. जिसके बाद से ही कौए उसकी जान के दुश्मन बने हैं.

उसने कहा- ‘बचाने में कौए का बच्चा मेरे हाथ में मर गया था. वो एक जाली में फंस गया था. मैं कौए को नहीं बता सकता हूं कि उस हादसे में मेरी कोई गलती नहीं थी. मैं सिर्फ उस वक्त कौए की मदद कर रहा था. आज भी जब भी कौए हमला करते हैं तो कभी मैं उसे मारने की कोशिश नहीं करता.’

कौए कई बार शिव को चोटिल कर चुके हैं. जब एक स्थानीय पत्रकार शिव से मिलने पहुंचा और देखना चाहा कि क्या सच में कौआ उस पर हमला करता है तो वो भी देखकर हैरान रह गया. भोपाल के एक प्रोफेसर ने बताया कि कौए बदला लेने की क्षमता रखते हैं और लोगों के चेहरों को पहचानते हैं.

भोपाल में पक्षी और पशु व्यवहार पर शोध करने वाले प्रोफेसर अशोक कुमार मुंजल का मानना है कि कौए बदला लेने की क्षमता रखते हैं और वो लोगों के चेहरों को याद रखते हैं. यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन के रिसर्चर ने खुलासा किया कि कौए का दिमाग काफी शार्प रहता है और नुकसान पहुंचाने वाले व्यक्ति से बदला लेने की क्षमता रखता है.

loading...
शेयर करें