इतिहास में पहली बार एक ही हाईकोर्ट में पति-पत्नी बने जज, एक ही दिन ली शपथ

मद्रास हाईकोर्ट में इतिहास में पहली बार एक ही कोर्ट में पति-पत्नी बने जज, ज्यूडिशयरी के इतिहास में दूसरी बार बना ये रिकॉर्ड

चेन्नई: मद्रास हाईकोर्ट में इतिहास में पहली बार पति-पत्नी जज और दोनों ने एक ही दिन शपथ भी ली। महाधिवक्ता विजय नारायण ने कहा कि जस्टिस मुरली शंकर कुप्पुराजू और जस्टिस तमिलसेल्वी टी वलयापलायम ने ऐसा कर न्यायिक इतिहास रच दिया है।  

महाधिवक्ता का बयान

मद्रास हाईकोर्ट में पति-पत्नी जज के साथ 8 दूसरे जजों  ने भी शपथ ली है। महाधिवक्ता विजय नारायण ने कहा, जस्टिस कुप्पुराजू ने जस्टिस तमिलसेल्वी से शादी की है। मद्रास हाईकोर्ट के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि पति और पत्नी ने जज के पद की एक ही दिन शपथ ली है।

जजों ने ली शपथ

खबरों के मुताबिक पति-पत्नी जज के साथ 8 और लोगों ने भी शपथ ली है। जिनके नाम इस प्रकार है- गोविंदराजुलु चंद्रशेखरन, एए नक्कीरन, वीरसामी शिवगणनाम, गणेशन इलंगोवन, गणेश इलंगोवन, अनन्ति सुब्रमण्यन, कन्नममल शंमुगा सुन्दरम, सती कुमार सुकुमार कुरुप, मुरली शंकर कुपुराजा, मुंजुला रामराजू नालिया।

1996 में जस्टिस की शादी

जस्टिस मुरली शंकर कुप्पुराजू तिरुचि में प्रधान जिला और सत्र जज के रूप में कार्यरत थे उन्होंने साल 1996 में जस्टिस तमिलसेल्वी टी वलयापलायम से शादी की थी।  जो मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच में रजिस्ट्रार (न्यायिक) के रूप में तैनात थीं।

यह भी पढ़ेIndian Navy Day 2020: मोदी ने दी जवानों को बधाई, जानें इस दिन का इतिहास और महत्व

यह भी पढ़ेसरकार और किसानों की बातचीत फिर बेनतीजा, पांच दिसंबर को अगली बैठक

Related Articles