इस वजह से जॉनी लीवर बने धर्म उपदेशक

नई दिल्ली। बॉलीवुड के मशहूर कॉमेडियन जॉनी लीवर को कौन नहीं जानता है, जिन्होंने अपने अभिनय से फिल्मी दुनिया में एक अलग मुकाम हासिल किया है। आज उनका नाम लेते ही लोगों के चेहरे पर अलग मुस्कान छा जाती है। बता दे कि आज जॉनी का जन्मदिन है इस खास मौके पर उन्होंने अपनी जिंदगी से जुड़े एक राज का खुलासा किया है।

आपको ज्ञात होगा कि एक बार जॉनी लीवर को जेल जाना पड़ा था। उन्होंने इसके बारे में बताते हुए कहा है कि यह बात उस समय की है जब मैने फिल्में करना छोड़ दिया था, क्योंकि उस समय मेरे बेटे को कैंसर हो गया था। ईश्वर के चरणों के सिवा मुझे कुछ और समझ नहीं आ रहा था जगह-जगह मंदिरो में माथा टेकता था कि अब वही कोई चमत्कार कर सकते है और यकिनन ऐसा हुआ भी था मेरा बेटा कैंसर कि चपेट से बाहर निकल आया था। इस बात से मेरा उनपर यकीन और भी ज्यादा हो गया था।

मैने बहुत सी फिल्में कि है सबको अपने अभिनय से खूब हसाया है। लेकिन असल में मुझे हसाने वाला सिर्फ ईश्वर ही था। जिसने मुझे टूटने से बचाया था। जॉनी लीवर ने कहा था, मैं रोमन कैथलिक हूं, लेकिन मैंने कभी बाइबल नहीं पढ़ी। अब मैं इसे पूरी तरह पढ़ चुका हूं, मेरा मानना है कि ईश्‍वर की प्रार्थना से आपके जीवन में चमत्‍कार हो सकता है।

बता दे कि यही वजह थी जिससे जॉनी लीवर धर्म उपदेशक बन गए थे। मुंबई, चेन्‍नई और यहां तक की अमेरिका में हर संडे होने वाली उनकी प्रार्थना सभाओं में सैकड़ों लोग जुटने लगे थे। और आज भी वो अपने जिंदगी में हुए इस बदलाव को ईश्वर का इशारा ही समझते है।

Related Articles