आगरा एक्सप्रेसवे भूल जाइये, अब देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे बनाएंगे सीएम योगी

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ प्रदेश का ही नहीं बल्कि देश का सबसे लबां एक्सप्रेसवे बनाने की तैयारी में हैं। योगी सरकार का दावा है कि अखिलेश सरकार द्वारा बनाए गए आगरा एक्सप्रेसवे से कहीं ज्यादा बेहतर होगा ये प्रोजेक्ट। ये एक्सप्रेसवे लखनऊ से गाजीपुर तक की दूरी तय करेगा, जिसकी कीमत लगभग 25,000 करोड़ रुपये बताई जा रही है। सरकार ने इसे बनाने के लिए तीन साल का समय आंका है।

ये भी पढ़ें : आज से 11 अगस्त तक चलेगा मॉनसून सत्र, इन मुद्दों पर सरकार को घेरने को तैयार बैठा विपक्ष

सबसे लबां एक्सप्रेसवे

लखनऊ- गाजीपुर एक्सप्रेसवे बनने में तकरीबन तीन साल का समय लगेगा

अगर बात करें आगरा एक्सप्रेसवे की तो उसे बनाने में तकरीबन 2,900 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे। योगी सरकार ने इसे बड़ा घोटाला बताया था। लखनऊ से गाजीपुर के बीच 353 किलोमीटर के पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का प्रस्ताव अखिलेश यादव ने किया था। इसकी लागत 24,627 करोड़ (70 करोड़ रुपये प्रति किमी़) आंकी जा रही है, जबकि 302 किलोमीटर लंबे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे की लागत 14,397 करोड़ (50 करोड़ रुपये प्रति किमी ) थी।

यूपी सरकार के एक बड़े अफसर ने बताया, ”जमीन अधिग्रहण की ऊंची लागत हमारे लिए एक बड़ा फैक्टर है। लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे के लिए तकरीबन 2,900 करोड़ रुपए खर्च किए गए, लेकिन नए एक्सप्रेस वे के जमीन अधिग्रहण के लिए करीब 7 हजार करोड़ रुपए खर्च करने की जरूरत होगी।”

”यूपी में उपजाऊ जमीन है और सरकार का इरादा किसानों को उनकी जमीन की अच्छी कीमत देने का है। यही वजह है कि इसकी कीमत ज्यादा है।”

बहुत जल्द लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर टोल लगाएगी योगी सरकार

छह लेन वाला यह एक्सप्रेसवे मौजूदा आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से जुड़ेगा, जो पहले ही नोएडा-आगरा (यमुना) एक्सप्रेसवे से जुड़ा हुआ है। इससे मुसाफिरों को राज्य की पूर्वी और पश्चिमी सीमाओं के लिए बढ़िया रास्ता मिल सकेगा और कम समय में मंजिल पर पहुंचना मुमकिन हो सकेगा। यूपी सरकार कॉस्ट की रिकवरी के लिए लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर जल्द टोल लगाएगी।

देखते हैं क्या योगी सरकार अपने कहे हुए वादा पर खरे उतरते हैं या नहीं, या फिर सिर्फ अखिलेश सरकार निशाना साधकर ही ठंडी पड़ जाएगी।

loading...
शेयर करें