पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम का जीडीपी को लेकर सरकार पर हमला

भारतीय जीडीपी में आई गिरावट का असर पूरी दुनिया पर

नई दिल्ली: अन्तराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की मुख्या अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में जो बातचीत की| जिसमें कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा की अब गीता गोपीनाथ को मंत्रियों के हमले के लिए तैयार हो जाना चाहिए| इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आईएमएफ की ओर से भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर 2019-2020 में 5 फीसदी से भी कम दर आंकी गई है| उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में कहा कि आश्चर्य नहीं होगा कि इससे भी नीचे दर हो जाए| आपको बता दें कि IMF की चीफ़ इकोनॉमिस्ट गीता गोपीनाथ का कहना है कि भारतीय जीडीपी में गिरावट का असर पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर  पड़ रहा है|

https://puridunia.com/the-decline-in-the-indian-economy-will-affect-the-entire-world/437848/

विश्व अर्थव्यवस्था की जीडीपी में अगर भारतीय अर्थव्यवस्था की भागीदारी की बात करें तो ये काफ़ी अहम है| अगर भारतीय जीडीपी में गिरावट आती है तो इसका असर पूरी दुनिया के आर्थिक विकास पर भी पड़ेगा| इसलिए हमनें ग्लोबल ग्रोथ के अनुमान को भी 0.1 फीसदी कम किया है| जिसका अधिकांश हिस्सा भारत के ग्रोथ रेट में कमी की वजह से है|

आईएमएफ के ताजा अनुमान के अनुसार वैश्विक दर 2.9 रहेगी| 2020 में जीडीपी थोड़ी सुधर सकती है| इसके साथ ही भारत में जन्मीं आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा कि मुख्य रूप से गैर-बैंकिंग वित्तीय क्षेत्र में नरमी तथा ग्रामीण क्षेत्र की आय में कमजोर वृद्धि के कारण भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान कम हुआ है| मुद्राकोष के अनुसार 2019-20 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 4.8 प्रतिशत रहेगी|

Related Articles