पूर्व सदस्य का दावा, बीजेपी चला रही है फर्जी खबरों का कारखाना!

नई दिल्ली। हाल ही में खुद को कथित तौर पर बीजेपी आईटी सेल का सदस्य बताने वाले महावीर ने एक बड़ा खुलासा किया है। महावीर ने बताया कि आईटी सेल फेक न्यूज़ पर काम करने के लिए एक पूरा कारखाना चला रही है। इस कारखाने को चलाने के लिए 150 लोगों की टीम काम करती हैं। यह टीम फर्जी खबरों पर खासा मेहनत करती है।

 

फेक न्यूज़ पर काम करने वाली इस टीम को अच्छी खासी सरकारी नौकरी जैसी पगार भी दी जाती है। साथ ही उन्होंने बताया कि इसमें काम कर रहें सुपर 150 लोगों को पीएम मोदी से भी मिलने का मौका मिल चुका है। जनसत्ता की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक इंटरव्यू के दौरान इस बात का खुलासा किया गया है। यह इंटरव्यू कथित तौर पर बीजेपी आईटीसेल के पूर्व सदस्य महावीर ने दिया था। जिसमें उन्होंने यह भी बताया कि इस खुलासे करने के बाद उन्हें धमकी भरे फोन कॉल्स आ रहे हैं।

यूट्यूबर ध्रूव राठी द्वारा लिए गए इस इंटरव्यू में महावीर ने बताया कि उसे हर खबर के हिसाब से पैसे दिए जाते थे। महावीर ने बताया उनका काम सोशल मीडिया को अच्छे से देखना था जो भी बीजेपी के बारे में लिखता उसका पेज या अकाउंट को बंद कराने की जिम्मेदारी महावीर की थी।

कैसे होता है काम-
150 लोगों की टीम हर रोज़ सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्विटर के लिए कंटेंट तैयार करती हैं, फिर उसे ट्रेंड में लाने के लिए 20 हज़ार लोग उसे शेयर करके उस पर मेहनत करते हैं। किसी भी मुद्दे पर बनाए गए कंटेट को नीचे तक फारवर्ड करते हैं। जिसे वह सोशल मीडिया पर जमकर वायरल करते हैं।

इस आईटी सेल कंपनी में काम करने वालों को 10-10 मोबाईल के साथ एक लैपटॉप भी दिया जाता है। जानकारी के मुताबिक एक ही मुद्दे पर कम से कम 50 ट्वीट करने होते हैं। इसी तरह जब एक साथ दो हज़ार लोग भी किसी मैसेज को पोस्ट करते हैं तो वह ट्रेंड में आ जाता है। इसके बाद बारी आती है सुपर 150 लोगों वाली टीम की जो कंटेट बनाती है और उसके बाद बाकी मेंबर्स को उस कॉपी पेस्ट करना होता है। इसके अंतर्गत कई महापुरुषों से लेकर भारतीय सेना तक के फर्जी पेज भी बनाए गए हैं। जिसमें धर्म से लेकर हर मुद्दों को उठाया जाता है। जिसके जरिए आम जनता की भावनाओं को भड़काया जाता है।

Related Articles