पूर्व सांसद धनंजय सिंह की मुश्किलें बड़ी, लखनऊ के कोर्ट ने फैसला सुनाया

आजमगढ़ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की लखनऊ में छह जनवरी को हत्या के मामले में पूर्व सांसद धनंजय सिंह की मुश्किल बढ़ती ही जा रही है

उत्तर प्रदेश: आजमगढ़ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की लखनऊ में छह जनवरी को हत्या के मामले में पूर्व सांसद धनंजय सिंह की मुश्किल बढ़ती ही जा रही है। इस हत्याकांड में 25 हजार का इनाम घोषित होने के बाद अब लखनऊ की कोर्ट ने बहुजन समाज पार्टी से जौनपुर से सांसद रहे धनंजय सिंह को भगोड़ा घोषित कर दिया है।

 

जाने लखनऊ के कोर्ट ने क्या कहा अजीत सिंह केस को लेकर

लखनऊ की कोर्ट ने अजीत सिंह की हत्या में बड़ी साजिश रचने वाले फरार पूर्व सांसद धनंजय सिंह को भगोड़ा घोषित कर दिया है। पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर लखनऊ में हुए आजमगढ़ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड की साजिश रचने का आरोपी है। इस हत्याकांड में लखनऊ पुलिस शूटर सहित कई लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। इसके बाद धनंजय सिंह का भी नाम जोड़ा गया। लखनऊ, विभूतिखंड में अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपित धनंजय सिंह के खिलाफ कोर्ट से हुई 82 की कार्रवाई।

 

जाने कैसी रही लखनऊ पुलिस की कारवाई

पुलिस ने एकाएक अजीत सिंह हत्याकांड के मामले में धरपकड़ तेज कर दी है। लखनऊ पुलिस महीनों से धनंजय सिंह को गिरफ्तार करने का प्रयास कर रही है, लेकिन धनंजय सिंह आराम से जौनपुर में थे। कुछ महीनों पहले ही वह एक अन्य मामले में जमानत कटवाकर जेल भी गए थे। इसके बाद उनकी जमानत हो गई और वह बाहर आ गए लेकिन लखनऊ पुलिस को नहीं मिले।   लखनऊ पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए जौनपुर उनके घर तक कई बार दबिश की औपचारिकता पूरी कर चुकी है।

धनंजय सिंह इस हत्याकांड में अग्रिम जमानत के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा चुका चुके है, लेकिन राहत नहीं मिली। धनंजय की तरफ से कहा गया कि उन्हे इस मामले में झूठा फंसाया गया है।

 

जाने क्या था मामला ?

विभूति खंड स्थित कठौता चौराहे पर छह जनवरी को शाम 8.30 बजे ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर अजीत सिंह की हत्या कर दी गई थी। इसमें उसका साथी मोहर सिंह और एक राहगीर आकाश यादव भी घायल हुआ था। मोहर सिंह की तहरीर पर आजमगढ़ के अखंड सिंह व कुंटू सिंह, शूटर गिरधारी सहित चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था।  बाद में जांच के दौरान 11 और आरोपी बनाए। पुलिस ने कुल 15 में से 12 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन तीन आरोपी फरार चल रहे हैं। इनमें पूर्व सांसद धनंजय सिंह, उनका करीबी विपुल सिंह और शूटर रवि यादव शामिल है। जबकि इस हत्याकांड के मुख्य शूटर गिरधारी को पुलिस ने 14/15 फरवरी की रात उसे मुठभेड़ में मार गिराया था।

 

यह भी पढ़ें:KGF CHAPTER 2 के राइट्स बीके, मूवी के डायरेक्टर ने किया बड़ा खुलासा

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles