मलेशिया के पूर्व पीएम महातिर मोहम्मद का विवादित बयान, कहा मुस्लमानों को फ्रांस के लोगों को मारने का हक

फ्रांस के नीस शहर में हुए आतंकी हमले में तीन लोगों की मौत का समर्थन करते हुए मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने इसे मुस्लमानों का हक करार दिया है।

नई दिल्लीः फ्रांस के नीस शहर में हुए आतंकी हमले में तीन लोगों की मौत का समर्थन करते हुए मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने इसे मुस्लमानों का हक करार दिया है।

दरअसल पैरिस में हिस्ट्री टीचर की विवादित हत्या के बाद गुरुवार को फ्रांस के नीस शहर में स्थित नोट्रेड्रम चर्च में एक आतंकी ने चाकू से हला कर दिया। इस हमले में तीन नागरिकों की मौत हो गयी है।

जहां फ्रांस में इस हमले के बाद माहोल तानवपूर्ण बना हुआ है वहीं मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने नीस हमले पर बयान देते हुए कहा कि, मुस्लमानों को फ्रांस के नागरिकों को मारने का पूरा हक है।

महातिर ने यह टिप्पणी अपने एक लेख में की है। हालांकि इस लेख में उन्होंने नीस हमले का जिक्र नहीं किया लेकिन उन्होंने हिस्ट्री टीचर की हत्या की बात करते हुए लिखा कि, ‘मुस्लिमों को गुस्सा करना का अधिकार है और अतीत में किए गए नरसंहारों के लिए लाखों फ्रांसीसी नागरिकों को मारने का भी पूरा हक है।  मगर अभी तक मुस्लिम आंख के बदले आंख की ओर नहीं बढ़े हैं। मुस्लिम ऐसा नहीं करते। फ्रांस को भी ऐसा नहीं करना चाहिए। इसके बदले फ्रांस को अपने नागरिकों को दूसरे की भावनाओं का ख्याल करना की सीख देनी चाहिए। ‘

महातिर ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘किसी धर्म का अपमान करने वाले एक शिक्षक की हत्या पर पूरे इस्लाम को दोषी ठहराना ठीक नहीं है। ऐसा नहीं लगता कि मैक्रों सभ्य हैं। जब आप एक आक्रोशित शख्स के गलत काम का ठीकरा सारे मुसलमानों पर फोड़ते हैं और उन्हें दोषी ठहराते हैं, तो मुसलमानों को भी फ्रेंच लोगों को सजा देने का हक है। केवल फ्रांस के सामानों का बहिष्कार करना इसका सही मुआवजा नहीं होगा। ‘

गौरतलब है कि फ्रांस की राजधानी पैरिस में एक अध्यापक द्वारा पैगंबर मोहम्मद का विवादित कार्टून दिखाने के कारण उसकी हत्या कर दी गयी। जिसके बाद फ्रांस के राष्ट्रपति ने इस्लाम धर्म को इस घटना का दोषी करार दिया था। मैक्रों के इस बयान के बाद तुर्की के आह्वान पर ज्यादातर इस्लामिक देशों ने एकजुट होकर फ्रांस के खिलाफ मुहीम छेड़ दी है।

Related Articles