राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री Jagannath Pahadia का निधन, राजकीय शोक की घोषणा, जानिए इनकी History

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया का कोरोना की वजह से बुधवार की देर रात निधन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित विभिन्न राजनीतिक दलों ने जताया दुख

नई दिल्ली: राजस्थान (Rajasthan) के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया (Jagannath Pahadia) का कोरोना की वजह से  बुधवार की देर रात निधन हो गया। जगन्नाथ पहाड़िया 93 वर्ष के थे। दिल्ली के निजी अस्पताल में उनका कई दिनों से कोविड का इलाज चल रहा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित विभिन्न राजनीतिक दलों ने जगन्नाथ पहाड़िया के निधन पर दुख व्यक्त किया है। राज्य सरकार ने उनके निधन पर एक दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है।

PM ने जताई संवेदना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हुए भावुक बोले, राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जगन्नाथ पहाड़िया जी के निधन से दुखी हूं। अपने लंबे राजनीतिक और प्रशासनिक करियर में, उन्होंने आगे सामाजिक सशक्तिकरण में उल्लेखनीय योगदान दिया। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना। शांति।

 

अशोक गहलोत ने जताया गहरा दुख

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने गहरा दुख जताते हुए बोले कि प्रारम्भ से ही उनका मेरे प्रति बहुत स्नेह था, श्री पहाड़िया के जाने से मुझे व्यक्तिगत क्षति हुई है। श्री पहाड़िया हमारे बीच से कोविड की वजह से चले गए, उनके निधन से मुझे बेहद आघात पहुंचा है। ईश्वर से प्रार्थना है शोकाकुल परिजनों को इस कठिन समय में संबल दें एवं दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें।

राजकीय शोक की घोषणा

सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट करके कहा कि, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जगन्नाथ पहाड़िया जी के निधन की खबर बेहद दुखद है। श्री पहाड़िया ने मुख्यमंत्री के रूप में, राज्यपाल के रूप में, केंद्रीय मंत्री के रूप में लंबे समय तक देश की सेवा की, वे देश के वरिष्ठ नेताओं में से थे।

20 मई (गुरूवार) को राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक होगी, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री स्व. श्री जगन्नाथ पहाड़िया जी के निधन पर शोकाभिव्यक्ति होगी। स्व. श्री पहाड़िया के सम्मान में एक दिन का राजकीय शोक रहेगा एवं राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा, सभी सरकारी कार्यालयों में 20 मई का अवकाश रहेगा।

करियर की शुरूआत

जगन्नाथ पहाड़िया का जन्म 15 जनवरी 1932 को राजस्थान राज्य के वर्तमान भरतपुर जिले के भुसावर शहर में एक दलित परिवार में उनका जन्म हुआ था। वे एक भारतीय राजनीतिज्ञ और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के नेता थे। वह हरियाणा के राज्यपाल और बिहार के राज्यपाल और उनके गृह राज्य राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री थे। उन्होंने भरतपुर, महाराजा कॉलेज, जयपुर और लॉ कॉलेज राजस्थान विश्वविद्यालय से M.A., LL.B., M.S.J. किया है।

राजनीति में पहला कदम

वे 6 जून 1980  से 14 जुलाई 1981 तक राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री थे और इस पद को धारण करने वाले राजस्थान के पहले दलित थे। जगन्नाथ पहाड़िया ने 1998 से 2008 और 1980 से 1990 तक राजस्थान विधानसभा की सेवा की।

उन्होंने दूसरी लोकसभा में सवाई माधोपुर, लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र और चौथी, 5वीं और 7वीं लोकसभा में राजस्थान के बयाना निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। उनकी पत्नी शांति पहाड़िया भी लोकसभा सदस्य थीं। वे 3 मार्च 1989 से 2 फरवरी 1990 तक बिहार के राज्यपाल रहे। बाद में  उन्होंने 27 जुलाई 2009 से 26 जुलाई 2014 तक हरियाणा के राज्यपाल की सेवा की और उन्हें नियुक्त किया गया।

यह भी पढ़ेUttarakhand में भूस्खलन, आवाजाही बंद, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट

Related Articles