तो क्‍या सबसे बुजुर्ग है यूपी पुलिस!

0

3649-up-police

लखनऊ। यूपी में हर साल चार हजार पुलिसवाले रिटायर्ड हो जाते हैं। प्रदेश में बढ़ती आबादी और पुलिसवालों की कमी से निपटने के लिए मुख्‍यमंत्री ने भर्ती प्रक्रिया मे तेजी लाने को कहा है। मुख्‍यमंत्री ने पुलिस भर्ती एवं प्रोन्‍नति बोर्ड से कार्ययोजना बनाकर जल्‍दी भर्ती प्रक्रिया पूरी करने को कहा है। 

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चयनित पुलिसकर्मियों के प्रशिक्षण कार्य को शीघ्र पूरा कराये जाने तथा बाकी रिक्तियों को भी नियमानुसार भरे जाने की कार्यवाही में तेजी लाने के निर्देश दिये हैं।

प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पण्डा की अध्यक्षता में कमाण्ड सेन्टर एनेक्सी में हुई उच्‍चस्‍तरीय बैठक में बताया गया कि आरक्षी भर्ती में वर्ष 2013 में कुल 38047 अभ्यर्थियों का चयन किया गया, जिसमें 33495 आरक्षी पुलिस, 3407 आरक्षी पीएसी तथा 1145 फायर मैन है।  आरक्षी पुलिस के लिये कुल चयनित 33495 अभ्यर्थियों में 12469 का प्रशिक्षण आरम्भ कराया जा चुका है।

प्रमुख सचिव गृह ने निर्देशित किया कि जिन 4279 अभ्यर्थियों जिनका सत्यापन कार्य पूर्ण हो चुका है उनको 15 जनवरी से प्रशिक्षण के लिए भेज दिया जाये। बाकि बचे 16747 चयनित अभ्यर्थियों के सत्यापन की कार्यवाही 20 जनवरी से सभी जनपदों में आरम्भ करा दी जाये और इनके प्रशिक्षण का कार्य 28 मार्च, 2016 से शुरू करा दिया जाये। प्रमुख सचिव गृह को बैठक में जानकारी दी गयी कि आरक्षी पीएसी के लिये उक्त भर्ती में 3407 अभ्यर्थी चयनित हुये थे जिनमें से 152 अभ्यर्थियों का प्रशिक्षण प्रारम्भ किया जा चुका है।

श्री पण्डा ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि शेष बचे 3255 अभ्यर्थियों का प्रशिक्षण कार्य इसी माह 15 जनवरी से प्रारम्भ करा दिया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये है कि फायर मैन के लिये चयनित सभी 1145 अभ्यर्थियों का प्रशिक्षण कार्य भी इसी माह 22 जनवरी से प्रारम्भ करा दिया जाये। बैठक में यह भी बताया गया कि निर्देशों में स्पष्ट कर दिया जाये सभी अभ्यर्थियों की नियुक्तियों न्यायालय के निर्णय के अधीन रहेगी।

 

loading...
शेयर करें