IPL
IPL

‘किसान संवाद कार्यक्रम’ रद्द होने से भड़के सीएम खट्टर, कांग्रेस और CPI पर जमकर निकाली भड़ास

सीएम बोले बाबा भीमराव आंबेडकर के द्वारा दी गई व्यवस्था का उल्लंघन करने वालों को इस देश की जनता कभी माफ़ नहीं करेगी .

नई दिल्ली : किसानों के भारी भरकम विरोध प्रदर्शन के बाद करनाल (Karnal) जिले के कैमला गांव (Kaimla village) में किसान संवाद कार्यक्रम (Farmer interaction program) रद्द हो जाने के बाद सीएम मनोहर लाल खट्टर (CM Manohar Lal Khattar) ने चंडीगढ़ (Chandigarh) में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press conference) कर कांग्रेस (Congress) और कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party) पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि बाबा भीमराव आंबेडकर (Baba Bhimrao Ambedkar) के द्वारा दी गई व्यवस्था का उल्लंघन करने वालों को इस देश की जनता कभी माफ़ नहीं करेगी .

सीएम ने कहा कि 1975 में कांग्रेस डेमोक्रेसी को खत्म करने की कोशिश की थी, तब इमरजेंसी लगाई थी,जिसके बाद जनता ने लंबी-पुरानी सत्ता को जड़ से उखाड़ फेंका था.वहीँ प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कम्युनिस्ट पार्टी और गुरनाम सिंह चढ़ूनी (Gurnam Singh Chaduni) को भी कार्यक्रम में हुए हंगामें को जिम्मेदार ठहराया है. सीएम खट्टर (CM Khattar) ने कहा कि कांग्रेस नेता लगातार उकसाने वाले भाषण दे रहे है, किसानों में भ्रम पैदा कर रहे है,

वास्तविकता से अपरिचित है किसान

किसानों में पैदा हुए भ्रम को ख़त्म करने के लिए ही आज करनाल के कैमला गांव में कार्यक्रम आयोजित की गई थी.जहां पर कुछ लोग अपने किये हुए वादों का उल्लंघन करते हुए मंच पर हंगामा कर दिया, कुछ लोग हेलिपैड पर आ गए, मंच पर हमारे नेता मौजूद थे कार्यक्रम में करीब 5000 की संख्या में लोग मौजूद थे .मुख्यमंत्री का कार्यक्रम था, इसलिए प्रशासन भी पूरी तैयारी की थी, उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सबको अपनी बात कहने का अधिकार है .कार्यक्रम में अफरा- तफरी ना मचे इसलिए मैंने अपना हेलीकाप्टर करनाल उतरवाया .

सीएम ने कहा कि जो लोग दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे है, विशेष रूप से टिगरी और सिंघु बॉर्डर पर वो वास्तविकता से अपरिचित है .ऐसे में हमारा दायित्व बनता है कि उनको वास्विकता बताया जाए .उन्होंने कहा कि आंदोलनकारी नेताओं से प्रशासन ने पहले ही बात कर ली थी, और वह बस अपना एक संकेतित प्रदर्शन की अनुमति मांगी थी, जिसे प्रशासन ने दी थी. लेकिन बड़ी संख्या में पहले से ही वहां लोग पहुच कर माहौल ख़राब कर दिए .

किसानों को भड़काने वाले कर रहे देश का अपमान

सीएम (CM Khattar) ने कार्यक्रम आयोजकों का धन्यवाद देते हुए कहा कि उस क्षेत्र के लोगों की अपेक्षाएं थी कि मुख्यमंत्री आ रहे तो विकास की कुछ परियोजनाओं का घोषणा करेंगे .उन्होंने कहा कि उनकी अपेक्षाओं के अनुरूप 100 करोड़ की योजनाओं की घोषणा करनी थी और 45 करोड़ की योजनाओं का शिलन्यास करना था, जिसे प्रशासन ने शायद कर दिया होगा.

कम्युनिस्ट पार्टी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कम्युनिस्ट के नेता लगातार लोगों को बरगलाकर अपना पाँव पसारने में लगे है .गुरनाम सिंह चढ़ूनी को लेकर उन्होंने कहा कि वह व्यक्ति पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर लोगों को भड़का रहा था , ऐसे लोग किसानों का भी अपमान कर रहे है, हमारे देश का किसान कितना भी कम पढ़ा लिखे रहे, लेकिन देश की व्यवस्था पर उसे पूरा विश्वास रहता है .

कैमला गांव में तय था बीजेपी का ‘किसान संवाद कार्यक्रम’

बता दें कि बीजेपी (BJP) ने हरियाणा (Haryana) के करनाल जिले के कैमला गांव में किसान संवाद कार्यक्रम आयोजित की थी, जिसमें हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर किसानों के बात करके किसानों को नए कृषि कानूनों (New agricultural laws) का फायदा समझाने वाले थे.लेकिन खुद के विधानसभा क्षेत्र में ही मनोहर लाल खट्टर को किसानों के हंगामें के चलते अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा . जिसके बाद चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस करके अपनी बात रखी .

.

 

 

 

 

 

 

Related Articles

Back to top button