पुलिस कांस्टेबल के झूठी खबर से मचा हड़कम्प, पुलिसकर्मी के खिलाफ केस दर्ज

आनन-फानन में भारी पुलिस फोर्स कचहरी पहुंच गई। यहां सघन तलाशी अभियान चलाया गया।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के बलिया ( Baliya ) में न्यायालय परिसर ( Court premises ) में बम होने की सूचना से हड़कम्प मच गया। आनन-फानन में भारी पुलिस फोर्स कचहरी पहुंच गई। यहां सघन तलाशी अभियान चलाया गया। पूरी छानबीन के बाद न्यायालय परिसर में बम की सूचना अफवाह निकली।

बताया जा रहा है कि एक पुलिस कांस्टेबल राकेश कुमार ( Police Constable Rakesh Kumar  ) ने पुलिसकर्मियों के एक व्हॉट्सएप ग्रुप में बलिया न्यायालय परिसर में बम होने की सूचना पोस्ट कर दी थी। इसके बाद विभाग में हड़कम्प मच गया। आनन-फानन न्यायालय परिसर में छानबीन की गई।

एक सिपाही ने फैलाई थी अफवाह

छानबीन के बाद पता चला कि न्यायालय परिसर में बम होने की अफवाह विभाग के ही एक सिपाही ने फैलाई थी। इसके बाद कांस्‍टेबल के खिलाफ केस दर्ज कर उसे सस्पेंड ( Suspend )  कर दिया गया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है।

कोर्ट परिसर में बम होने की सूचना वायरल ( Viral ) होते ही मामला सीएम योगी आदित्यनाथ ( CM Yogi Adityanath ) तक पहुंच गया। मुख्यमंत्री ( Chief Minister ) ने डीजीपी को तलब कर लिया। सूत्रों की मानें तो इसके बाद आईजी, डीआईजी और एसपी से सम्पर्क कर पूरे प्रकरण की जानकारी लेने के बाद डीजीपी कार्यालय ने कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

आपको बता दें कि पुलिसकर्मियों के एक व्हॉट्सएप ग्रुप ( WhatsApp Group ) में कई जनपदों के पुलिसकर्मी जुड़े हैं, जिसके जरिये सूचनाओं का आदान-प्रदान होता है। इसमें सर्विलांस ( Surveillance ) व एलआईयू ( LIU ) के साथ ही अन्य गुप्तचर एजेंसियों के जवान हैं।

आमतौर पर इस तरह की सूचनाएं ग्रुप में डालते रहते हैं। हालांकि इस बार राकेश द्वारा डाली गयी जानकारी किसी और पुलिस ग्रुप में वायरल हो गई। इसका नतीजा यह हुआ कि अनुशासनहीनता ( Indiscipline ) मानते हुए उसके खिलाफ केस दर्ज कर सस्पेंड कर दिया गया।

यह भी पढ़ें: ढाई फीट के अजीम मंसूरी को मिल सकती है दुल्हन, जानिए कहां से आया रिश्ता

Related Articles