NCLT के इस कदम से फ्यूचर ग्रुप को मिली राहत

नई दिल्ली : बिज़नेस स्टैंडर्ड की खबर के मुताबिक, नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (NCLT) की मुंबई बेंच ने मंगलवार को किशोर बियानी की अगुवाई वाली फ्यूचर ग्रुप को अपने शरहोल्डर्स और क्रेडिटर्स के साथ मीटिंग करने की इजाजत दे दी, जिससे वह अपनी संपत्तियों को रिलायंस रिटेल लिमिटेड को बेचने के सौदे पर मंजूरी हासिल कर सके।

NCLT ने ख़ारिज की अमेज़न की अपील

इस कड़ी में जानकारों के मुताबिक, नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल ने किशोर बियानी की अगुवाई वाली फ्यूचर ग्रुप की कंपनियों के मर्जर की योजना को चुनौती देने वाली अमेजन की अपील को खारिज कर दिया। ट्राइब्यूनल ने कहा कि इस योजना पर विचार के लिए शेयरधारकों और क्रेडिटर्स की बैठक की अनुमति देने से कोई नुकसान नहीं है, क्योंकि जब इसे ट्राइब्यूनल के पास अंतिम मंजूरी के लिए दायर किया जाएगा, तो अमेजन के पास अपनी आपत्तियां दर्ज करने का ऑप्शन होगा।

ट्राइब्यूनल ने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने उसे इस योजना पर सिर्फ अंतिम आदेश जारी करने से रोका है। ऐसे में अब फ्यूचर ग्रुप के पास शेयरधारकों और क्रेडिटर्स की सभी तैयारियों से जुड़ी मंजूरियां हासिल करने का ऑप्शन होगा।

यह भी पढ़ें : तीसरी लहर की न हो एंट्री इसलिए विदेशियों की नो एंट्री, इतने दिन तक अंतरराष्ट्रीय उड़ानें स्थगित

Related Articles