Gandhi Jayanti: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती, जानें इतिहास

नई दिल्ली: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती आज यानि 2 अक्तूबर को पूरे देश में धूमधाम से मनाई जा रही है। हिंदुस्तान के इतिहास में गांधी जी का नाम सबसे महान महापुरूषों में से एक है। देश को आजाद कराने में गांधी जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। बापू एक महान नेता के साथ साथ समाज सुधारक भी थे। गांधी जी के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री समेत कई वरिष्ठ नेताओं ने बधाई दी।

Gandhi Jayanti
Gandhi Jayanti

आज है 151वीं जयंती

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती है। गांधी जी का पूरा नाम मोहन दास करमचंद गांधी था। इन्हें बापू के नाम से भी जाना जाता है। अहिंसा के दम पर देश को अंग्रेजों से आजादी दिलाने वाले बापू आज भी कई लोगों के दिलों में जिंदा हैं।

क्यों मनाई जाती है गांधी जयंती

महात्मा गांधी का जन्मदिन 2 अक्तूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। देश को आजादी दिलाने के लिए गांधी जी कई बार जेल गए थे। गांधी जयंती को विश्व अहिंसा दिवस दिवस के नाम पर भी मनाया जाता है। विश्व में गांधी जी को उनके अहिंसात्मक आंदोलन के लिए जाना जाता है। इस दिन को वैश्विक तौर पर उनका सम्मान व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है।

महात्मा गांधी की खास बातें

  • महात्मा गांधी का जन्मदिन 2 अक्तूबर 1869 में हुआ था।
  • भारत को आजादी दिलाने में गांधी जी का अहम रोल था।
  • देश को आजाद कराने के लिए बापू कई बार जेल गए।
  • लंदन से कानून की पढ़ाई करने के बाद बैरिस्टर की डिग्री हासिल की थी।
  • महात्मा गांधी को 5 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नामित किया गया है।
  • महात्मा गांधी रोजाना 18 किलोमीटर पैदल चलते थे।
  • गांधी जी साबरमती आश्रम में अपना जीवन गुजारा किया।
  • बापू पोशाक धोती व सूत से बनी शाल पहनी जिसे वे खुद चरखे पर सूत कातकर हाथ से बनाते थे।

ये भी पढ़ें: अखिलेश ने कहा विपक्ष के नेताओं पर पाबंदी लगा रही सरकार

Related Articles