गांधी प्रतिमा लखनऊ में किसान मंच का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ। किसान मंच ने आज गांधी प्रतिमा के निकट अपनी मांगों को लेकर जबरदस्त प्रदर्शन किया। प्रदर्शन का नेतृत्व किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष शेखर दीक्षित ने किया। प्रदर्शन में हजारों की तादाद में किसान सुबह ही प्रदेश कार्यालय पर एकत्र होने लगे।

दोपहर एक बजे गांधी प्रतिमा के आसपास की सड़कें किसान मंच जिंदाबाद के नारों से गूंज उठीं। हर तरफ किसान मंच के झंडे-बैनर दिखाई दे रहे थे। इतनी तादाद में आए किसानों को देखकर पुलिस-प्रशासन के हाथ पैर फूल गए। किसान मंच के प्रदेष अध्यक्ष शेखर दीक्षित ने कहा कि प्रदेश का किसान आत्महत्या जैसा आत्मघाती कदम उठाने के लिए मजबूर है औऱ सूबाई सरकार के उदासीन रवैये के चलते बद से बदतर हालातों में जीने को मजबूर हैं।

श्री दीक्षित ने कहा कि बेमौसम वर्षा एवं सूखे में किसानों की फसलें तबाह हो गई थीं। जिसके मुआवजे का एलान सूबाई सरकार ने किया था लेकिन थोड़े ही किसानों तक यह लाभ पहुंचा और अव्यवस्था की भेंट चढ़ गया। मुआवजे वितरण में कई तरह की धांधलियां उजागर हो रही हैं। आम किसान मुआवजे से महरूम है।

किसान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद सिंह ने कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार दोनों ही किसानों की उपेक्षा कर रही हैं किसान मंच इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेगा। वही किसान मंच के नेता व कवि वेदवृत बाजपेयी ने कहा कि किसानो को सरकारे केवल वोटबैक की तरह उपयोग कर रही है जिससे किसान बद से बदतर जीवन जीने को मजबूर है।

वहीं किसान मंच के नेताओं ने कहा कि खराब फसलों से आहत कई किसानों ने आत्महत्या तक कर ली। प्रदेश की सरकार के लिए यह शर्म की बात है कि आत्महत्या करने वाले परिवारों के घर कोई नेता या सरकारी सेवक नहीं पहुंचा न ही उसकी समस्या को सुलझाने का प्रयास किया। किसान मंच ने अपने मांग पत्र में आत्महत्या करने वाले किसानों को 15-15 लाख तथा परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी सेवा में रखने की मांग की है। श्री दीक्षित ने कहा कि मुआवजा वितरण में भ्रष्टाचार की जांच कराई जाए। गन्ना किसानों का भुगतान अविलम्ब कराया जाए। किसान आयोग का गठन किया जाए। प्रत्येक किसानों को 2000 रुपए प्रति माह जीवन-यापन के लिए भत्ता दिया जाए। जब तक किसानों की माली हालत न सुधर जाए। गन्ने का समर्थन मूल्य 400 रुपए प्रति कुंतल किया जाए। गेहूं, धान की फसलों का मूल्य डेढ़ गुना किया जाये।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button