पहले नाबालिग के साथ हुआ गैंगरेप, फिर पुलिस ने भी किया गलत काम

0

बेंगलुरु: वैसे तो पुलिस के कन्धों पर अपराधों के अंत और लोगों की सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी होती है लेकिन बेंगलुरु से एक ऐसी घटना सामने आई है जिसमें एक लड़की को पहले गैंगरेप जैसे अमानवीय अपराध का शिकार होना पड़ा और इसके बाद जब वह न्याय के लिए पुलिस के दर पर पहुंची तो वहां भी उनको सिर्फ धुत्कार मिली। हालांकि कुछ दिनों बाद मामला उजागर होने के बाद पुलिस को केस दर्ज करना पड़ा।

मिली जानकारी के अनुसार, यह मामला बीते 10 जुलाई को रमामूर्थी थाना क्षेत्र में स्थित आरके पुरम रेलवे स्टेशन के पास का है। बीते दिनों यहां छह आरोपियों ने एक नाबालिग को अपनी अपनी हवस का शिकार बनाया। तभी वहां से गुजर रही एक महिला ने लड़की को आरोपियों से बचाया था। महिला को देखकर सभी आरोपी वहां से फरार हो गए थे।

यह भी पढ़ें: भूत काट रहा है महिलाओं की चोटियां, FIR दर्ज

इसके बाद पीड़िता ने सारी आपबीती अपने परिजनों को बताई। 11 जुलाई को जब पीड़िता के परिजन  थाने में मामला दर्ज कराने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें खाली हाथ वापस कर लिया। यह सिलसिला कई दिनों तक चला, लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया।

यह भी पढ़ें: 20 हजार रुपये न चुका पाने पर ओला कैब चालक को किया किडनैप, मांगी एक लाख रुपये की फिरौती

बीती 20 जुलाई को पीड़िता ने पेट में दर्द होने की शिकायत की, जिसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया। जब डॉक्टर को पूरा मामला पता चला तो उन्होंने भी इसकी शिकायत पुलिस से की। हालांकि तब मामला बढ़ता देख पुलिस ने पीड़ित परिजनों को थाने में बुलाया। एफआईआर दर्ज कर ली। हालांकि इस दौरान पुलिस ने पीड़िता से कई तरह के सवाल किए।

यह भी पढ़ें: भ्रष्ट अधिकारियों का पीएम मोदी की नजरों से बच पाना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन

पीड़िता ने फेसबुक पर तीन आरोपियों को पहचान भी लिया लेकिन पुलिस ने इसे भी आया-गया कर दिया। इस मामले में पुलिस से पूछताछ की गई तो उन्होंने सभी आरोपों को खारिज कर दिया। इंस्पेक्टर चंद्रदारा का कहना है कि पीड़िता ने हर घंटे अपने बयान बदले हैं।

loading...
शेयर करें