रिलीज से पहले ही विवादों में फसी फिल्म ‘Gangubai Kathiawadi’, कोर्ट ने भेजा समन

संजय लीला भंसाली (Sanjay Leela Bhansali) की फिल्‍म 'Gangubai Kathiawadi' की मुश्किले कम होती नजर नहीं आ रही हैं।

मुंबई: संजय लीला भंसाली (Sanjay Leela Bhansali) की फिल्‍म ‘Gangubai Kathiawadi’ की मुश्किले कम होती नजर नहीं आ रही हैं। इस फिल्म के कई सारे विरोधी सामने आये है। लगातार विरोध के बीच मुंबई की मझगांव अदालत ने एक्ट्रेस आलिया भट्ट और फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली को समन भेजा है।

समन भेज कर कोर्ट में हाजिर होने का आदेश भी दिया है। मुंबई की एक चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्‍ट्रेट ने सभी को 21 मई को कोर्ट में हाजिर होने के लिए कहा है। यह फिल्म मुंबई की माफिया क्वीन और वहां के एक फेमस वेश्यालय की मालकिन रही गंगूबाई के जीवन पर आधारित है।

gangubai kathiawadi
gangubai kathiawadi

‘Gangubai’ के कथ‍ित बेटे ने ठोका मुकदमा

गंगूबाई के 4 अडॉप्टेड बच्चों में से एक बाबूजी रावजी शाह ने हुसैन जैदी (जिनकी बुक ‘माफिया क्वीन ऑफ मुंबई’ को कहानी का आधार बनाया गया), एक्ट्रेस आलिया भट्ट और डायरेक्टर संजय लीला भंसाली के खिलाफ केस फाइल किया है। अदालत ने इसी मामले की सुनवाई के दौरान यह फैसला दिया है। अदालत ने इससे पहले आलिया, भंसाली और किताब के रायटर से जवाब तलब किया था।

बाबू रावजी का कहना है कि हुसैन जैदी (Hussain Zaidi) की किताब ‘माफिया क्‍वीन्‍स ऑफ मुंबई’ (Mafia Queens of Mumbai) में लिखी बातें सच नहीं हैं। ऐसे में संजय लीला भंसाली ने झूठे तथ्‍यों को आधार बनाकर फिल्‍म का निर्माण किया है। ऐसे में उन्‍होंने फिल्‍म के निर्देशक के साथ ही उपन्‍यास के लेखक के खिलाफ भी मानहानि का दावा किया है। बाबू रावजी इससे पहले सेशंस कोर्ट भी गए थे।

यह भी पढ़े:

उन्‍होंने वहां फिल्‍म के प्रोमो और ट्रेलर पर रोक लगाने की मांग की थी। कोर्ट ने उनकी गुहार को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा नहीं किया जा सकता है, क्‍योंकि किताब 2011 में रिलीज हुई थी और वह अब 2020 में शिकायत दर्ज करवा रहे हैं।

Related Articles