गौरव गिल ने जीता इंडियन नेशनल रैली चैम्पियनशिप का दूसरा राउंड

अपने एक्सयूवी 300 में सवार तीन बार के एपीआरसी चैम्पियन गिल शानदार फार्म में दिखे और शुरुआत से ही अपना वर्चस्व जारी रखा।

ईटानगर: भारत के अग्रणी रैली चालक और अर्जुन अवार्डी गौरव गिल ने अपना विजय क्रम जारी रखते हुए रविवार को चैम्पियन याच क्लब-एफएमएससीआई इंडियन नेशनल रैली चैम्पियनशिप 2002 का दूसरा राउंड का खिताब जीत लिया। इस राउंड को रैली ऑफ अरुणाचल के नाम से जाना जाता है।

गिल ने जीत हासिल करते हुए खुद को चैम्पियन के तौर पर किया स्थापित

जेके टायर चालक ने अपने सहचालक मूसा शरीफ के साथ वहीं से शुरुआत की, जहां उन्होंने दो दिन पहले राउंड में समाप्त की थी। गिल ने 42.15.00 मिनट का समय निकालते हुए रैली जीती और ग्रैंड डबल के साथ अरुणाचल चरण पूरा किया। अपने एक्सयूवी 300 में सवार तीन बार के एपीआरसी चैम्पियन गिल शानदार फार्म में दिखे और शुरुआत से ही अपना वर्चस्व जारी रखा। शुरुआत के दो नाइट स्टेज के बाद गौरव ने शनिवार को ही 1.51 मिनट की बढ़त ले ली थी। इसके बाद छह स्पेशल स्टेजेज जिनमें चार नाइट स्टेजेज भी शामिल हैं जीत हासिल करते हुए गिल ने खुद को इस राउंड में चैम्पियन के तौर पर स्थापित किया।

गिल के टीम साथी अमित्राजीत घोष ने अपने सहचालक अश्विन नाइक के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। इन दोनों ने 43.48.1 मिनट का समय निकाला। घोष भी एक्सयूवी300 चला रहे थे। वह बीते एक साल से अधिक समय के कार में समस्या का सामना कर रहे थे लेकिन इस बार उन्होंने शानदार ड्राइविंग करते हुए सीजन का पहला पोडियम फिनिश हासिल किया।

घोष ने कहा, ‘‘पहले तो यह कहूं कि फिर से रैली में आकर अच्छा लग रहा है। कोविड की हालत और फिर महेंद्रा का पुल करना, हमारे लिए काफी ट्रिकी सिचुएशन था लेकिन जेके टायर और महेंद्रा ने अंतत: हमें सपोर्ट किया और अब चीजें नार्मल होने लगी हैं। मेरे लिए यह राउंड खास था क्योंकि काफी समय के बाद मैंने पोडियम फिनिश किया है। इसका सारा श्रेय कार को जाना चाहिए। इसी कार को मैंने यूरोप में चलाया है और अब मैं भारत में इस कार के प्रदर्शन से खुश हूं।’’

यह भी पढ़े:

Related Articles