मप्र में गायत्री परिवार ‘नशासुर’ का करेगा दहन

भोपाल | समाज को नशा मुक्त बनाने की मुहिम के साथ अखिल विश्व गायत्री परिवार का युवा प्रकोष्ठ अपने ‘भारत व्यसन छोड़ो’ अभियान के तहत दशहरे के मौके पर रावण, मेघनाद, कुंभकर्ण के स्थान पर ‘नशासुर’ के पुतले का दहन करेगा।

'नशासुर'

अखिल विश्व गायत्री परिवार के युवा प्रकोष्ठ के सदस्य भूषण योगेश व पंकज ने बताया कि दशहरा पर रावण के स्थान पर व्यसन रूपी नशासुर का दहन किया जाएगा। युवा प्रकोष्ठ की प्रदेश की सभी इकाइयों द्वारा निर्णय लिया गया है कि दशहरे के पर्व पर नशासुर का पुतला जलाया जाए।

युवा प्रकोष्ठ के अभिषेक, अंकित, नमिता सीमा व काजल का कहना है कि समाज में अत्याचार, अनाचार, छोटी-छोटी बच्चियों के साथ दुराचार तेजी से बढ़ रहा है। इसके पीछे मुख्य कारण समस्त व्यसन है। इसमें नशीले पदार्थो के साथ, फैशन, वैचारिक अश्लीलता, अनुपयोगी इंटरनेट व मोबाइल का इस्तेमाल शामिल है।

युवा प्रकोष्ठ के सदस्य अमर धाकड़ ने बताया कि नवरात्रि पर्व पर भोपाल के दुर्गा पंडालों व अन्य स्थानों पर नशे से होने वाली हानियों को दिखाने वाली फिल्में दिखाई जा रही हैं। दशहरा मैदानों पर गायत्री परिवार द्वारा पोस्टर लगाकर जन जागरण किया जा रहा है। साथ ही अपील की जा रही है कि दुर्गा पंडालों में फूहड़ कार्यक्रमों का आयोजन न करें।

उन्होंने कहा, “कन्या भोज के समय कन्याओं द्वारा समिति सदस्यों से नशा न करने का एवं बहनों की रक्षा का वचन पत्र लेने का अभियान चल रहा है। इन कामों में हमारे भोपाल युवा प्रकोष्ठ के सक्रिय युवा कार्यकर्ता भाई-बहन, दुर्गा पंडालों पर संपर्क कर पोस्टर लगा रहे हैं।”

Related Articles