स्वास्थ्य क्षेत्र की कंपनी इंडस हेल्थ प्लस के तरफ से लांच हुआ जीनोमिक्स टेस्ट ‘कोविडनावाइज’

कोरोना वायरस के संक्रमण से ग्रसित होने की पूर्ववृत्ति जानने के लिए जीनोमिक्स टेस्ट ‘कोविडनावाइज’ को लॉन्च किया हैं।

नयी दिल्ली: स्वास्थ्य क्षेत्र की कंपनी इंडस हेल्थ प्लस ने कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण से ग्रसित होने की पूर्ववृत्ति (प्रीडिस्‍पोजिशन) जानने के लिए जीनोमिक्स टेस्ट ‘कोविडनावाइज’ को लॉन्च किया हैं। कंपनी ने आज यह जानकारी दी कि यह टेस्ट तीन श्रेणियों के तहत 18 मानकों के बारे में आनुवांशिक जोखिमों की जानकारी देगा। इन तीन श्रेणियों में कोविड-19 से संक्रमित होने की संभावना और उसकी गंभीरता, पोषण और कोविड-19, कोविड-19 की सह-रुग्णताएं शामिल हैं। कंपनी ने कहा कि इस महामारी के शुरू होने के बाद, इसके विभिन्न पहलुओं को समझने के लिए दुनियाभर में विभिन्न शोध अध्ययन किये जा रहे हैं। इस संक्रमण में आनुवंशिक कारकों की भूमिका को स्पष्ट करते हुए नित नये निष्कर्ष सामने आ रहे हैं। कंपनी ने यह दावा किया है कि ऐसे कई अध्ययन किये गये हैं जिनके मुताबिक विभिन्न जेनेटिक पॉलीमॉफिर्ज्म और कोविड-19 संबंधित मापदंडों के जोखिम के बीच परस्पर संबंध है। इसी आधार पर, इंडस हेल्थ प्लस ने ‘कोविडनावाइज’ टेस्ट को लांच किया है।

इंडस हेल्थ प्लस के संयुक्त प्रबंध निदेशक अमोल नाइकवाडी ने कहा, ” कोविड महामारी के दौर में यह जरूरी है कि लोग रोकथाम के महत्व को समझें और उचित दिशानिर्देशों का पालन करें क्योंकि कोरोना से हर किसी के संक्रमित होने का खतरा है। हालांकि, संक्रमण का प्रभाव हर व्यक्ति में उनके आनुवंशिक बनावट या गठन के आधार पर अलग हो सकता है। इसलिए आनुवंशिकी के क्षेत्र में अपनी विशेषज्ञता के साथ हमने लोगों का भविष्य स्वस्थ बनाने के प्रयास में ‘कोविडनावाइज’ लांच किया है। यह बेहतर प्रतिरक्षा के लिए पोषण और आनुवंशिकी के आधार पर संक्रमण की गंभीरता को जानने में मदद करता है। इन जेनेटिक प्रिडिपोजीशन और जानकारियों को जानने से व्यक्ति को इस संक्रमण से बेहतर बचाव करने में मदद मिलती है।”

‘कोविडनावाइज’ में स्लाइवा की जांच की जाती है, जो घर बैठे करायी जा सकती है। इंडस हेल्थ प्लस का पूरे देश में एक मजबूत नेटवर्क है जो उपभोक्ताओं को डोर-टू-डोर सैंपल कलेक्शन सर्विस उपलब्ध कराता है। कंपनी ने बताया कि यह टेस्ट किफायती मूल्य पर देशभर में उपलब्ध है और इस टेस्ट पैकेज में स्लाइवा सैंपल किट, रिपोर्ट और जेनेटिक काउंसलर द्वारा परामर्श सेवा शामिल है।

इसे भी पढ़े: विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 4.34 करोड़ से ज्यादा, 1,159,397 लोगों की मौत

Related Articles

Back to top button