घेरी आई कारी बदरिया बरसन लागी सखी मोरी अटरिया, सावन के दूसरे दिन हुई कजरी महोत्सव की ऑनलाइन कार्यशाला

लखनऊ: सावन (Sawan) के दूसरे दिन दिवस पर आज सोमवार को अन्तर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास परिवार के तत्वावधान में कजरी महोत्सव (Kajari Festival) कार्यशाला का दूसरे दिन प्रतिभागी अपनी अपनी प्रस्तुति दिया। ‘घेरी आई सखी कारी बदरिया, बरसन लागी सखी मोरी अटरिया’शीर्षक से कजरी महोत्सव (Kajari Festival) आयोजित इस कार्यक्रम का दूसरे अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास के अध्यक्ष परमानंद पांडेय ने सभी प्रतिभागियों से अपनी प्रस्तुति के लिए आग्रह किया अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास परिवार की संरिक्षका और कार्यशाला की प्रशिक्षिका शशिलेखा सिंह ने “विनई ला शरदा भवानी, पत राखीं महारानी”।

दूसरा कजरी “घेरी आई कारी बदरिया बरसन लागी सखी मोरी अटरिया” एक एक कर सभी प्रतिभागियों की प्रस्तुति को सुना और प्रतिभागियों एक एक अंतरा क उच्चारण की बारीकी को समझाया।

आनलाइन कजरी गायन

उसके बाद शशिलेखा सिंह ने आनलाइन कजरी गायन कर आनलाइन गुगल मीट पर कजरी गीतों की प्रस्तुतिकरण और प्रशिक्षण में भाग लेने वाली प्रतिभागियों से एक एक अंतरा सुनाया जिसमें प्रतिभागी रीता श्रीवास्तव, नर्वदा उर्फ मधु श्रीवास्तव, सुमन पांडेय, अंजली सिंह, हेमलता त्रिपाठी, सीमा अग्रवाल, अर्पणा सिंह, नीरु श्रीवास्तव, शैली सिंह, बंदना तिवारी, सुधा तिवारी, कल्पना जौहरी, भारती श्रीवास्तव गाजियाबाद, नीरु श्रीवास्तव, शैली सिंह, कंचन श्रीवास्तव, रीता पांडेय, भारती श्रीवास्तव, कुसुम मिश्रा, रीना मिश्रा, इंदु दुबे गायत्री त्रिपाठी, तन्नु कुमारी चौहान, सरला गुप्ता, कल्पना सक्सेना, अम्बुज अग्रवाल, राम बहादुर राय अकेला सम्मलित हुईं/हुए।

ये रही मौजूद

आज भी अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी सेवा न्यास के उपाध्यक्ष दुर्गा प्रसाद दुबे, दिग्विजय मिश्र, संयुक्त सचिव राधेश्याम पांडेय, जे पी सिंह, न्यासी शाश्वत पाठक प्रसून पांडेय, सुदर्शन दुबे, दिव्यांशु दुबे, अखिलेश द्विवेदी, दशरथ महतो, गयानाथ यादव, और ऊषाकान्त मिश्र, विनीत तिवारी, निलेन्द्र त्रिपाठी, पुनीत निगम आदि भी मौजूद रहे।

Related Articles