माता-पिता के साथ गर्लफ्रेंड भी है नैतिक समर्थक, सफलता का श्रेय तीनों को: : UPSC Topper कनिष्क कटारिया

नई दिल्ली: प्यार के किस्से और कहानियां तो बहुत सुनने को मिलते हैं लेकिन बहुत कम ही ऐसा सुनने को मिलते है की प्यार की वजह से कोई महान उपलब्धी मिल जाये| संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के नतीजे शुक्रवार शाम को जारी कर दिए गए, जिसमें कनिष्क कटारिया ने पहला स्थान हासिल किया है। उन्होंने इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, बहन और प्रेमिका को दिया, जिन्होंने कनिष्क को नैतिक समर्थन दिया।

कंप्यूटर साइंस में बीटेक कनिष्क ने कहा- यह बहुत ही आश्चर्यजनक क्षण है। मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं पहली रैंक हासिल करूंगा। लोग मुझसे एक अच्छा प्रशासक बनने की उम्मीद करेंगे और यही मेरा इरादा है। उन्होंने वैकल्पिक विषय के रूप में गणित को लिया था। कनिष्क ने कहा कि मैं अपने माता-पिता, बहन और प्रेमिका को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने मुझे नैतिक समर्थन दिया।

यूपीएससी की परीक्षा में दूसरे स्थान पर अक्षत जैन, तीसरे स्थान पर आईआरएस की ट्रेनिंग ले रहे जुनैद अहमद हैं। वहीं, सृष्टि जयंत देशमुख की पांचवी रैंक है, लेकिन महिलाओं में वह पहले नंबर पर हैं। सृष्टि जयंत देशमुख ने अपने पहले ही प्रयास में यह कामयाबी हासिल की है। उन्‍होंने भोपाल के कॉलेज से केमिकल इंजीनियरिंग में बीई की उपाधि हासिल की है।

आईएएस, आईपीएस आदि पदों पर नियुक्ति के लिए कुल 759 अभ्यर्थियों के नाम घोषित किए गए हैं, जिनमें 577 पुरुष और 182 महिलाएं हैं। यूपीएससी के शीर्ष 25 अभ्यर्थियों में 15 पुरुष और 10 महिलाएं हैं। बताते चलें कि तीन जून 2018 को हुई इस परीक्षा में 10,65,552 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था, जिनमें से 4,93,972 ने परीक्षा दी। मुख्य परीक्षा में कुल 10,468 अभ्यर्थी बैठे थे, जिसमें से साक्षात्कार के लिए कुल 1994 अभ्यर्थी सफल हुए थे।

Related Articles