कांच की छत, आलीशान खिड़कियां, घूमनें वाली सीटें, जानें इस नई ट्रेन की खासियत

मध्य रेलवे ने आज से मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस विशेष ट्रेन सेवाओं को एक विस्टाडोम कोच के साथ बहाल किया है

मुंबई: कोरोना महामारी की दूसरी वेव की रफ्तार धीमी पड़ जानें पर मध्य रेलवे ने आज से मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस (Mumbai-Pune Deccan Express) विशेष ट्रेन सेवाओं को एक विस्टाडोम कोच (Vistadome Coach) के साथ बहाल किया है। जिसके बाद यह स्पेशल ट्रेन लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है।

मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस की खासियत

मध्य रेलवे के CPRO ने बताया कि मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस की (विस्टाडोम कोच) वातानुकूलित कोच में छत पर कांच के पैनल हैं और बड़ी खिड़कियां हैं। कोच की सीटें 180 डिग्री तक घूम सकती हैं। भारत में कई रेलमार्ग ऐसे हैं जहां पर प्राकृतिक सौंदर्य का खजाना है। ऐसे में ट्रेन से सफर करने का आनंद बढ़ जाता है। पहाड़ों पर चलने वाली कई ट्रेनों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विस्टाडोम कोच लगाए गए है। जिससे की पर्यटक सफर के दौरान प्राकृतिक नजारें का लुफ्त उठा सकें। कालका-शिमला (Kalka-Shimla) के बाद अब से मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस में विस्टाडोम कोच लगाए गए है। इस ट्रेन के शुरू हो जाने पर सैलानियों को प्राकृतिक सौंदर्य का नजारा देखने को मिलेगा।

कुछ पर्यटन मार्गों पर विस्टाडोम ग्लास रूफ कोच संचालित करता है। इनमें अरकू घाटी, कोंकण रेलवे, कालका-शिमला रेलवे, कश्मीर घाटी, कांगड़ा घाटी और नेरल-माथेरान मार्ग शामिल हैं। इन डिब्बों का किराया एसी एग्जीक्यूटिव चेयर कार के बराबर है।

यह भी पढ़े‘मैंने हनुमान की तरह PM का साथ दिया, मेरे वध को राम खामोशी से नहीं देखेंगे’

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles