Goa Foundation Day: जानें गोवा में कैसे हुई थी वास्को डी गामा की Entry, क्या है पुराने सिक्को का इतिहास

30 मई 1987 को 56 वां संविधान संशोधन के तहत गोवा को अलग राज्य का दर्जा दिया गया था, जिसके बाद से ही हर साल 30 मई को गोवा स्थापना दिवस मनाया जाता है

पणजी: 30 मई 1987 को 56 वां संविधान संशोधन के तहत गोवा (Goa) को अलग राज्य का दर्जा दिया गया था। जिसके बाद गोवा भारत का 25 वां राज्य बना। तब से लेकर हर साल 30 मई के दिन गोवा स्थापना दिवस (Goa Foundation Day) मनाया जाता है।

इस मौके पर उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू (M. Venkaiah Naidu) ने गोवा वासियों को बधाई देते हुए कहा कि, गोवा के स्थापना दिवस पर प्रदेश वासियों के स्वस्थ और उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। यहां की विशिष्ट संस्कृति और प्राकृतिक सौंदर्य, गोवा को पर्यटकों के लिए स्वाभाविक आकर्षण बनाते हैं। प्रदेश की प्रगति और समृद्धि के लिए मेरी शुभकामनाएं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि समस्त गोवा वासियों को गोवा स्थापना दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। ईश्वर से कामना है कि प्राकृतिक सुरम्यता एवं सांस्कृतिक विविधता से पूर्ण यह सुंदर प्रदेश सौहार्द एवं समृद्धि से परिपूर्ण रहे और विकास की नवीन ऊंचाइयों को स्पर्श करे।

वास्को डी गामा की Entry

गोवा के लंबे इतिहास (History) की शुरुआत तीसरी सदी इसा पूर्व से शुरु होती है जब यहां मौर्य वंश के शासन की स्थापना हुई थी। 1498 में वास्को डी गामा (Vasco da Gama) यहां आनेवाला पहला यूरोपिय यात्री बना जो समुद्र के रास्ते गोवा आया था। उसके इस सफल अभियान ने यूरोप की अन्य शक्तियों को भारत पहुंचने के लिये दूसरे समुद्री रास्तों की तलाश के लिये प्रेरित किया क्योंकि तुर्कों द्वारा पारंपरिक स्थल मार्गों को बंद कर दिया गया था। 1510 में पुर्तगाली नौसेना द्वारा तत्कालीन स्थानीय मुगल राजा को पराजित कर पुर्तगालियों ने यहां के कुछ क्षेत्रों पर अपना अधिकार स्थापित किया गया। यहां वे अपना एक आधार बनाना चाहते थे गोवा से वे मसालों का व्यापार कर सकें। सोलहवीं सदी के मध्य तक पुर्तगालियों ने आज के गोवा क्षेत्र में पूरी तरह अपनी स्थिती सुदृढ कर ली थी।

गोवा में प्रयोग होने वाले सिक्के

सत्रहवीं शताब्दी से सन 1958 तक गोवा की मुद्रा रुपया थी। सन 1871 के बाद गोवा में प्रयोग होने वाले सिक्के कलकत्ता में बनाये गए। यह सिक्के वजन और चांदी के माप में ब्रिटिश इंडिया के सिक्कों जैसे ही थे। इससे गोवा और बाकी भारत में व्यापार में सरलता हुई। 1958 में पुर्तगाल सरकार ने गोवा की मुद्रा रूपये से बदल के एस्कुडो कर दी, 1 पुराना रुपया 6 एस्कुडो के बराबर था।

 

19 दिसंबर, 1961 को भारतीय सेना ने यहां आक्रमण कर इस क्षेत्र को मुक्त करवाया और गोवा भारत में शामिल हुआ। गोवा और इसके उपक्षेत्र दमन एवं दीव को भारत में संविधान के एक संघीय क्षेत्र के रूप में शामिल किया गया। लेकिन 30 मई 1987 को गोवा 56 वां संविधान संशोधन के तहत इसे अलग राज्य का दर्जा दिया गया और गोवा (Goa) भारत का 25 वां राज्य बन गया।

यह भी पढ़ेसीएम योगी का बड़ा ऐलान, COVID-19 के कारण दिवंगत पत्रकारों के परिजनों को 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद

Related Articles