अंतर्राष्ट्रीय बाजार में आई बड़ी गिरावट, सोने की चमक पड़ी फीकी

0

नई दिल्ली। कमजोर निवेश मांग और अमेरिकी मुद्रा डॉलर की मजबूती से पीली धातु की चमक इस साल फीकी पड़ गई है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पिछले पांच महीने में सोना 100 डॉलर प्रति आउंस से ज्यादा लुढ़क चुका है।

बोइंग ने जेटएयरवेज को दिया पहला ‘737 मैक्स विमान’

पीली धातु की चमकइस साल की शुरुआत में 25 जून को सोना 1,366 डॉलर प्रति आउंस की ऊंचाई को स्पर्श कर गया था, जिसके बाद काफी समय तक सोना अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 1,300 डॉलर के आसपास बना रहा। मगर, इस सप्ताह अचानक भारी गिरावट आ गई है। गुरुवार यानी 21 जून को सोना लुढ़ककर 1,261 डॉलर प्रति आउंस पर आ गया। इस तरह पांच महीने में 105 डॉलर की गिरावट दर्ज की गई।

भारत में भी सोने की मांग कमजोर देखी जा रही है जिससे इसकी कीमतों पर लगातार दबाव बना हुआ है। हालांकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार के मुकाबले भारत में सोने की कीमतों में गिरावट कम हुई है।

स्विगी ने नैस्पर्स व डीएसटी ग्लोबल से 21 करोड़ डॉलर जुटाए

भारतीय वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर सोने का अगस्त वायदा 30,586 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बना हुआ था जबकि कारोबार के दौरान वायदा 30,551 रुपये प्रति 10 ग्राम तक लुढ़का। भारतीय वायदा बाजार में सोना इस साल बहुधा 30,500-31,500 रुपये प्रति 10 ग्राम के रेंज में बना रहा।

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर विजय केडिया ने बताया कि भारतीय बाजार में सोने की कीमतों में कम गिरावट की वजह डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल रही है।

कमोडिटी बाजार के जानकार बताते हैं कि हाल ही में उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच सिंगापुर में हुई शिखर वार्ता के नतीजे सकारात्मक रहने से भूराजनीतिक तनाव में कमी आई है जिससे सोने के बजाए इक्विटी में निवेश के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ा है।

दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की माप का परिचायक डॉलर इंडेक्स पिछले कुछ समय से काफी मजबूत हुआ है। इसका कारण अमेरिकी केंद्रीय बैंक की ओर से ब्याज दर में इजाफा और अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार के संकेत रहे हैं। डॉलर इंडेक्स तकरीबन आठ महीने के ऊपरी स्तर पर बना हुआ है। हालांकि शुक्रवार को डॉलर इंडेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 0.31 फीसदी की गिरावट के साथ 94.24 पर बना हुआ था।

केडिया ने बताया कि भारत में सोने की खरीद परंपरागत रूप से नकदी में होती रही है। मगर, नोटबंदी के बाद बाजार में नकदी का संकट बना हुआ है जिससे सोने की मांग में कमी आई है। इसके अलावा वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) प्रणाली में सोने पर तीन फीसदी कर लगा दिया गया है इससे भी मांग कुछ कमजोर हुई है।

यही कारण है कि हाजिर में सोने के भाव में पिछले करीब डेढ़ महीने के मुकाबले तकरीबन 2,000 रुपये की कमजोरी दिख रही है। 12 मई को दिल्ली में 22 कैरट का सोना 32,420 रुपये प्रति 10 ग्राम था जबकि 21 जून को 30,250 रुपये प्रति 10 ग्राम।

loading...
शेयर करें