कब्जाधारियों के अवैध निर्माण पर चला सरकारी जेसीबी, सिंचाई विभाग की 2.5 एकड़ जमीन…

लखनऊः उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डॉ0 महेन्द्र सिंह के निर्देश पर जनपद उन्नाव (Unnao) में सिंचाई विभाग की जमीन पर किये गये अवैध कब्जे को स्थानीय प्रशासन एवं पुलिस के सहयोग से हटवाकर लगभग ढाई एकड़ जमीन मुक्त करायी गयी। इस जमीन की अनुमानित कीमत लगभग डेढ़ करोड़ रूपये है। यह जानकारी प्रमुख अभियंता (यांत्रिक) लखनऊ (Lucknow) देवेन्द्र अग्रवाल ने सोमवार को यहां दी।

उन्होंने बताया कि लखनऊ-कानपुर (Lucknow-kanpur) राजमार्ग पर जनपद उन्नाव के विकासखण्ड नवाबगंज के ग्राम सोहरामऊ में स्थित बनीनार्थ पम्प नहर की मुख्य नहर एवं सोहरामऊ माइनर पर 11 व्यक्तियों द्वारा अवैध कब्जा किया गया था, जिसकी एफआईआर सोहरामऊ थाने में 28 सितम्बर 2020 को करायी गयी थी।

6 साल पुराना था कब्जा

गाटा संख्या 167 एवं 80 (आंशिक रूप से) पर अवैध रूप से काबिज 05 व्यक्तियों के द्वारा किये गये कब्जे को 01 फरवरी, 2021 को अतिक्रमणमुक्त कराया गया था, परन्तु 06 लोगों द्वारा पक्के भवनों का निर्माण करा लिया गया था। इन लोगों को लगातार नोटिस देने के उपरान्त भी अवैध कब्जा नहीं हटाये जा रहे थे। ये कब्जा लगभग 06 वर्ष पुराने थे।

महेन्द्र सिंह ने दिए कड़े निर्देश

इन अवैध निर्माणों को सिंचाई विभाग की जमीन से हटाने के लिए जलशक्ति मंत्री डॉ0 महेन्द्र सिंह ने कड़े निर्देश दिये थे। उनका कहना है कि सिंचाई विभाग की जमीन पर जहां भी अवैध कब्जा किया गया हो, उसे नियमानुसार कार्यवाही करते हुए तत्काल हटाया जाय। इसी क्रम में इस जमीन को 10 जेसीबी एवं 02 पोकलैण्ड मशीनों की मदद से कब्जा करके जमीन को खाली करा लिया गया।

ये रहे मौजूद

इस अवसर पर मुख्य अभियंता (नलकूप-मध्य) लखनऊ आलोक गोयल, अधीक्षण अभियंता नलकूप मण्डल लखनऊ अरविन्द कुमार यादव के अलावा अधिशासी अभियंता शारदा सहायक खण्ड-6 रायबरेली विनोद कुमार, अधिशासी अभियंता नलकूप निर्माण खण्ड लखनऊ मो0 आसिफ, अधिशासी अभियंता नलकूप खण्ड लखनऊ संदीप कठेरिया तथा अधिशासी अभियंता नलकूप खण्ड उन्नाव संत लाल प्रसाद मौजूद थे।

Related Articles