सरकार ने बनाया बड़ा प्लान, 4 बैंकों को बेचने की हो रही तैयारी?

नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार एक बार फिर से बैंकों का निजीकरण (Bank privatisation) करने जा रही है। जिन 4 सरकारी बैंको का निजीकरण होना है सरकार ने उसको शॉर्टलिस्ट कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट से खबर मिली है कि जिन 4 बैंको (Bank) को शॉर्टलिस्ट किया गया है उनमे बैंक ऑफ महाराष्ट्र, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का नाम शामिल है।

इन 4 में 2 बैंकों का निजीकरण अगले वित्त वर्ष यानी 2021-22 में हो सकता है। वैसे तो सरकार ने अभी तक निजीकरण होने वाले बैंको का नाम औपचारिक तौर पर सार्वजनिक नहीं किया है। सरकार इन सरकारी बैंको को बेचकर पैसा कमाना चाहती है और इसका उपयोग सरकारी योजनाओं पर करने की योजना बनाई है। बैंकिंग सेक्टर में बहुत से अधिक कर्मचारी काम करते है और सरकार का यह फैसला जोखिम भरा हो सकता है। बैंको के निजीकरण से लोगों की नौकरियां जाने का खतरा है, इस वजह से कई बैंक यूनियन इसका विरोध करते हैं।

ये भी पढ़ें : आर अश्विन ने दूसरी पारी में लगाया शतक, बनाया नया रिकार्ड

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने केंद्रीय बजट 2021 के भाषण में कहा था कि पब्लिक सेक्टर के दो बैंकों और एक सामान्य बीमा कंपनी का निजीकरण किया जाएगा। इसके साथ ही भारत पेट्रोलियम में विनिवेश की योजना बनाई जा रही है। केंद्र सरकार इस समय सरकारी बैंकों (PSU Banks) में से आधे से ज्‍यादा का निजीकरण करने की योजना बना रही है। आने वाले समय में इस योजना के मुताबिक, देश में सिर्फ 5 सरकारी बैंक रह जाएंगे

ये भी पढ़ें : यह एक्ट्रेस तालाक के बाद रचा रहीं शादी, मेंहदी की Photo हुई viral

Related Articles

Back to top button