सरकार ने किया स्पष्ट, एमएसएमई निर्यात संवर्धन परिषद से हमारा कोई सम्बन्ध नहीं

सरकार ने किया स्पष्ट, एमएसएमई निर्यात संवर्धन परिषद से हमारा कोई सम्बन्ध नहीं नयी दिल्ली: एमएसएमई निर्यात संवर्धन परिषद को लेकर जानकारी देते हुए, सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि केंद्रीय सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय का इससे से कोई संबंध नहीं है और इसकी गतिविधियां अनधिकृत तथा द्वेषपूर्ण है।

16 अक्टूबर को जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार मंत्रालय ने आम जनता को एमएसएमई निर्यात संवर्धन परिषद की अनधिकृत और द्वेषपूर्ण गतिविधियों के बारे में सतर्क किया है। मंत्रालय के एक हिस्से के रूप में खुद को पेश करने वाले इस संगठन की दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों को काफी गंभीरता से लिया गया है।

सरकार ने स्पष्ट किया है की इस संगठन द्वारा जारी किये गए नियुक्ति में मंत्रालय की किसी भी प्रकार की भूमिका नहीं है। मंत्रालय ने किसी भी प्रकार का अधिकार-पत्र देने से साफ इनकार किया है।

मंत्रालय द्वारा की गई विज्ञप्ति के अनुसार यह पाया गया है कि एमएसएमई निर्यात संवर्धन परिषद द्वारा ‘निदेशक’ के पद के लिए नियुक्ति पत्र जारी करने के संबंध में कुछ संदेश मीडिया और सोशल मीडिया में प्रसारित किए जा रहे हैं। मंत्रालय इन सब का खंडन करते हुए कहा की यह संगठन सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय के नाम का दरूपयोग कर रहा है।

मंत्रालय ने यह अपनी विज्ञप्ति के जरिये ये स्पष्ट किया है कि मंत्रालय का किसी भी तरह से एमएसएमई निर्यात संवर्धन परिषद से संबद्ध नहीं है। साथ, ही मंत्रालय ने इस परिषद से संबंधित किसी भी पद पर नियुक्ति या किसी भी पोस्टिंग को अनधिकृत बताया है। मत्रालय ने आम जनता को इस बारे में सूचित करते हुए कहा की इस तरह के संदेशों या ऐसे गलत तत्वों के बहकावे में न आये।

ये भी पढ़ें: शारदीय नवरात्र आज से शुरू, घर-घर होगी देवी की आराधना

Related Articles