Make in India को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने कार कंपनियों से की अपील

नई दिल्ली : भारत सरकार ने कार मैन्युफैक्चरर कंपनियों से चीन से इलेक्ट्रिक व्हीकल कंपोनेंट्सऔर अन्य ऑटोमोटिव पार्ट्स के आयात पर रोक  लगाने की गुज़ारिश की है। इस कदम पर सरकार ने दलील दी है इस से Make in India अभियान मज़बूत होगा और नए रोज़गार भी सृजित किये जायेंगे।

Make in India का सारा मुनाफा खा जाता है चीन

इस कड़ी में अमिताभ कांत नेएक बयान जारी कर कहा कि भारतीय ऑटोमोबाइल और कंपोनेंट्स इंडस्ट्री को वाहनों के विभिन्न हिस्सों के लिए चीन पर अपनी आयात निर्भरता को खत्म करना होगा और ऐसी वस्तुओं के लोकल  प्रोडक्शन पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि ग्लोबल सप्लाई चेन में बैलेंस स्तापित करने के लिए,और एक्सपोर्ट बढ़ने के लिए सरकार कई अवसर मुहैया करा रही है। कांत ने कहा की मेक इन इंडिया के तहत हमें मशीनों के कल-पुर्ज़ों के लोकल प्रोडक्शन पर ज़ोर दें होगा। इस से दो फायदे होंगे। एक तो देश में रोगार बढ़ेगा वहीँ दूसरी तरफ चीन पर हमारी निर्भरता भी कम होगी।

इस कड़ी में उन्होंने कहा की हाल ही में लांच किये गए बीएस-6 इंजन के कई अहम् हिस्से अभी भी चीन जैसे मुल्कों से मंगाये जाते हैं। इस कड़ी में सरकार ने तय किया है की इस निर्भरता को जल्द से जल्द ख़त्म किया जायेगा।

यह भी पढ़ें : लंबी बीमारी के बाद फिल्म निर्माता का निधन, इससे पहले 12 अगस्त को पत्नी की हुई थी मौत

Related Articles