भारत सरकार ने किये थे वैक्सीन वितरण के झूठे वादे : राहुल गाँधी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को बिहार विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का संकल्प पत्र जारी किया था जिसमें यह वायदा किया गया है कि सरकार बनने पर राज्य में कोरोना वैक्सीन सभी को मुफ्त मुहैया कराई जायेगी।

नयी दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी( भाजपा) के बिहार विधानसभा चुनाव के लिए संकल्प पत्र में राज्य के लोगों को कोरोना वैक्सीन मुफ्त उपलब्ध कराने के वादे पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को भाजपा को घेरा और कहा कि इस पर सभी का अधिकार है और यह पूरे देश में फ्री मिलनी चाहिये। राहुल ने इस पर निशाना साधते हुए किया किया था ट्वीट।

उत्तर पूर्वी दिल्ली के शास्त्री पार्क के निकट सीलमपुर फ्लाइओवर को जनता को समर्पित करने आये केजरीवाल ने कहा कि कोरोना वैक्सीन बिहार में ही क्यों पूरे देश को मुफ्त में उपल्बध होनी चाहिए। देश में सभी लोग कोरोना से परेशान हैं। यह पूरे देश का अधिकार है। उन्होंने कहा कि जब वैश्विक महामारी कोविड-19 की वैक्सीन आएगी तो देखते हैं कि कितने की और कैसी है।

सरकार ने बचाए 53 करोड़ रूपये

केजरीवाल ने भाजपा के इस वादे पर सवाल किया और कहा गैर भाजपा शासित राज्यों का क्या होगा? जिन्होंने भाजपा को वोट नहीं दिया, उन्हें क्या यह टीका मुफ्त में नहीं दिया जाएगा?उन्होंने कहा कि इस फ्लाईओवर की अनुमानित लागत 303 करोड़ रुपये थी जबकि यह 250 करोड़ रूपए में बनकर तैयार हुआ है। दिल्ली की ईमानदार सरकार ने राजधानी की जनता के 53 करोड़ रुपए बचाए।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को बिहार विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का संकल्प पत्र जारी किया था जिसमें यह वायदा किया गया है कि सरकार बनने पर राज्य में कोरोना वैक्सीन सभी को मुफ्त मुहैया कराई जायेगी।

राहुल ने भी ट्वीट कर साधा निशाना

बिहार विधानसभा का चुनाव भाजपा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सहयोगी के रुप में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में लड़ रही है।

इससे पहले भाजपा के कोरोना वैक्सीन के वादे पर कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष्‍य राहुल गांधी ने भी ट्वीट करके निशाना साधते हुए कहा था ,” भारत सरकार ने कोविड वैक्सीन वितरण की घोषणा कर दी है। ये जानने के लिए कि वैक्सीन और झूठे वादे आपको कब मिलेंगे, कृपया अपने राज्य के चुनाव की तारीख़ देखें।”

यह भी पढ़ें: दिल्ली की हवा में प्रदूषण का बढ़ा स्तर, फिर ‘बेहद खराब’ श्रेणी में

Related Articles

Back to top button