मेडिकल की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स के लिए खुशखबरी, अब नहीं भरनी पड़ेगी ज्यादा फीस

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए ये बड़ी खबर है। क्योंकि सरकार ने प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की फीस निर्धारित कर दी है। अब प्राइवेट कॉलेज जो मनमानी फीस लेते थे उसपर सरकार ने रोक लगा दी है। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ. अनिता भटनागर जैन ने शुक्रवार को इसके औपचारिक आदेश जारी कर दिए हैं।

प्राइवेट मेडिकल कॉलेज़

प्राइवेट मेडिकल कॉलेज़ की फीस पर सरकार ने लगाई रोक

अब एमबीबीएस में दाखिले के लिए आपको 8.50 लाख रुपये से लेकर 11.50 लाख रुपये तक की फीस देनी होगी। जबकि बीडीएस के लिए 1.37 लाख रुपये से लेकर 3.65 लाख रुपये फीस तय की गई है। तय की गई फीस तीन शैक्षिक सत्र 2017-18, 2018-19 व 2019-20 पर लागू होगी।

सरकार ने ये कदम इसलिए उठाया है ताकि प्राइवेट कॉलेजों की मनमानी फीस लेने पर अंकुश लग सके। मेडिकल कॉलेजों की बैलेंस शीट व उनके खर्चे व आमदनी का हिसाब-किताब लगाने के बाद सभी की अलग-अलग फीस तय की है।

इतना ही नहीं सरकार ने प्राइवेट कॉलजों के डोनेशन पर भी रोक लगा दी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस बार सरकारी के साथ ही प्राइवेट की भी काउंसलिंग एक साथ हो रही है। अभी तक प्राइवेट कॉलेज 20 से 30 लाख रुपये डोनेशन के अलग से ले लेते थे। अब स्कूल और कॉलेजों ने एडमिशन के नाम पर बिजनेस करना शुरु कर दिया है। एडमिशन के नाम पर स्टूडेंट्स से लाखों रुपये ऐठने का धंधा लंबे समय से चलता आ रहा है, जिसपर अब सरकार ने रोक लगाई है।

loading...
शेयर करें