ड्रग रेगुलेटर CDSCO को अमेरिका के तर्ज़ पर रिडिजाइन करेगी सरकार

नई दिल्ली : देश के ड्रग एंड मेडिकल डिवाइस रेगुलेटर, सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) में बड़े बदलाव करने की तैयारी की जा रही है। इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें हेल्थ मिनिस्ट्री को 2012 में संसद की स्थायी समिति ने इसे मजबूत करने की सिफारिश की थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मिनिस्ट्री ने अब पिछले एक दशक में मिले सुझावों में से कुछ पर काम शुरू कर दिया है।

CDSCO का यह प्रोजेक्ट काफी वक़्त से लंबित था

इस प्रोसेस के जानकार एक अधिकारी ने बताया, “ऑर्गनाइजेशन को मजबूत बनाने का काम काफी वक़्त से लंबित था और कोरोना से आज यह बिलकुल साफ़ हो गया है के आज एक मजबूत रेगुलेटरी सिस्टम की जरूरत है।” जानकारों के अनुसार, इस रेगुलेटर का नाम बदलने के साथइसमें  कुछ अन्य बड़े बदलाव भी किए जाएंगे।

इस कड़ी में हेल्थ मिनिस्ट्री के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि इसे लेकर मीटिंग शुरू हो गई हैं और ऑर्गनाइजेशन के लिए हायरिंग की योजना भी बनाई जा रही है, जिसका मकसद अमेरिका के USFDA की तरह एक शक्तिशाली रेगुलेटर बनाना है।इसके साथ साथ इसके तहत एक ट्रेनिंग एकेडमी, नई ड्रग टेस्टिंग लैबोरेट्रीज बनाई जाएँग और मौजूदा लैबोरेट्रीज को अपग्रेड करने की है।

यह भी पढ़ें : Thomas Cup: भारत ने किया कमाल भारत कि मेंस बैडमिंटन टीम क्वार्टर फाइनल में पहुंचीं

Related Articles