संस्कृत पढ़ने वाले छात्रों को सौगात देगी सरकार, किया ऐलान

0

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य में संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए यहां की सरकार ने पढ़ने और पढ़ाने वालों की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम के कार्यक्रम में संस्कृत के विद्यार्थियों की छात्रवृत्ति दोगुनी करने का एलान किया गया। साथ ही संस्कृत में पढ़ाने वाले स्कूलों के अनुदान में भी 10 हजार की बढ़ोत्तुरी कर दी गयी है। और सरकार की तरफ से कहा गया की उन स्कूअलों को वे सभी सुविधाएं दी जायेंगी जिनसे इन स्कूलों में सुधार के साथ बदलाव भी आये जो इस समय की मांग है।

सीएम निवास पर शुक्रवार को आयोजित हुए कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सबोधित करते हुए कहा कि संस्कृत देव भाषा है जो कई सदीयों से चली आ रही है। आगे बोलते हुए कहा कि जब दुनिया में लोगों को अक्षर ज्ञान नहीं था तब हमारे ऋषि-मुनियों ने वैदिक ग्रंथों की रचना की।
सीएम यही नहीं रुके उन्हों ने ने कहा कि ऋषि-मुनियों ने संस्कृत भाषा में कालजयी ग्रंथ लिखे। इन ग्रंथों में ज्ञान-विज्ञान, खगोल शास्त्र, चिकित्सा शास्त्र का अथाह भण्डार है। यह हमारे लिए गौरव की भाषा है। यह सभी भाषाओं की माता है। संस्कृत से सभी भाषाओं की उत्पत्ति हुई।

यह भी पढ़े:-  सालों में दीमक खा गये पूरा गांव, हाथ से बाहर हुई समस्या

इस पूरी सभा की अध्य्क्षता स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने की। इस अवसर पर कोसल संस्कृत समिति और पाणिनीय शोध संस्थान बिलासपुर की अध्यक्ष डॉ. पुष्पा दीक्षित और बिसरा राम यादव विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। साथ में कई अन्य लोग भी मौजूद रहें। जिन्होंाने देव भाषा के दोबारा चरम पर ले जाने की बात कही।

loading...
शेयर करें