सरकार का बड़ा फैसला! खाने में पाई गई गड़बड़ी तो मिलेगा पूरा पैसा वापस, जानें नए नियम

0

नई दिल्ली. सरकार ने फूड सेफ्टी के मोर्चे पर एक बड़ा फैसला लिया है. अब उपभोक्ता खाने-पीने के किसी भी सामान की लैब में टेस्टिंग  करा सकेंगे. अगर टेस्ट में सैंपल खराब पाया जाता है तो उनको टेस्ट का पैसा वापस कर दिया जाएगा. फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI ) का कहना है कि इस सुविधा से खाने-पीने के सामान की क्वॉलिटी को सुधारने के मामले में क्रांति आ सकती है. उसका यह भी कहना है कि इस तरह की टेस्टिंग कोई भी शख्स करा सकता है, लेकिन उसे यह काम किसी उपभोक्ता संगठन के माध्यम से करना होगा.


गौरतलब है कि कई बार लोग खाने-पीने के सामान से शिकायत होने के बावजूद उसकी जांच नहीं करा पाते. इसकी एक बड़ी वजह जांच का खर्च भी है. अथॉरिटी का मानना है कि पैसा वापस होने की सुविधा मिलने से लोग फूड सैंपल्स की जांच के लिए आगे आएंगे और सिर्फ सरकारी एजेंसियों पर निर्भर नहीं रहेंगे.

दूध को लेकर सरकार ने बनाए नए नियम

अगर आप दूध और दूध से बनी चीजों का रोजाना इस्तेमाल करते हैं तो ये खबर आपके लिए महत्वपूर्ण है. क्योंकि फूड रेगुलेटरी FSSAI  ने डेयरी  और दूध से जुड़ी कंपनियों के लिए कड़े नियम बनाए हैं. नए आदेश के मुताबिक, मवेशियों के चारे का BIS सर्टिफाइड होना जरूरी होगा. इस साल के मिल्क सर्वे में बड़ी कंपनियों के दूध में एंटीबायोटिक और बाकी कैमिकल पाए जाने के कुछ मामलों के सामने आने के बाद यह फैसला किया गया है.

loading...
शेयर करें