आम आदमी को सरकार का दिवाली गिफ्ट, अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत: निर्मला सीतारमण

निर्मला सीतारमण ने कहा अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत, प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा

नई दिल्ली: देश की पहली महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, हाल के आंकड़े अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दे रहे हैं, जीएसटी कलेक्शन के आंकड़े बेहतर आए हैं। रिजर्व बैंक ने भी यह संकेत दिया है कि ‘तीसरी तिमाही में ही इकोनॉमी पॉजिटिव जीडीपी ग्रोथ हासिल कर सकती है’। मूडीज़ (मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस) ने भी भारत की रेटिंग में सुधार किया है। हमारी नेगेटिव रेटिंग पहले से बेहतर हुई है।

आखिर क्या होता है मूडीज़?

मूडीज कॉरपोरेशन की बॉण्ड-क्रेडिट की रेटिंग करने वाली कंपनी है। इसको संक्षेप में केवल ‘मूडीज़’ कहा जाता है। मूडीज़ की निवेशक सेवा वाणिज्यिक और सरकारी संस्थाओं के द्वारा जारी किए गए बॉण्डों पर ‘अंतरराष्ट्रीय वित्तीय अनुसंधान’ प्रदान करती है। मूडीज़ का नाम दुनिया की सबसे बड़ी तीन क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों में स्टैंडर्ड एंड पुअर्स और फिच समूह के साथ शामिल है। मूडीज़ कंपनी एक मानकीकृत रेटिंग पैमाने का उपयोग करके उधारकर्ताओं की ऋणपात्रता को रैंक देती है। इस ‘रेटिंग पैमाने’ में चूक की स्थिति में निवेशक के संभावित नुकसान की गणना की जाती है। मूडीज़ की निवेशक सेवा बॉण्ड बाज़ार के विभिन्न खंडों में ऋण प्रतिभूतियों को ‘रेटिंग’ देती है।

रेलवे में माल ढुलाई

वित्त मंत्री ने कहा कि रेलवे में माल ढुलाई 20 फीसदी बढ़ी है। बैंक कर्ज वितरण में 5 फीसदी की बढ़त हुई है। अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में अर्थव्यवस्था बेहतर होगी। एफपीआई का नेट निवेश भी सकारात्मक रहा है। जीएसटी कलेक्शन 10 प्रतिशत बढ़ा। विदेशी मुद्रा भंडार भी 560 अरब डॉलर के रिकॉर्ड पर पहुंच गया है।

भारत की रेटिंग में सुधार

निर्मला सीतारमण ने कहा कि मूडीज़ ने भारत की रेटिंग में सुधार किया है। पहले हमारी रेटिंग जहां 9.6 निगेटिव थी अब इसे घटाकर 8.9 निगेटिव कर दिया गया है। इसी तरह 2022 के अनुमान को 8.1 फीसदी से बढ़ाकर 8.6 फीसदी कर दी गई है। यह एक अच्छा संकेत है कि ‘भारतीय अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट रही है’। बैंक क्रेडिट में 23 अक्तूबर तक 5.1 प्रतिशत की तेजी आई है।

प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा

  • निर्मला सीतारमण ने कहा, आर्थिक पैकेज में केंद्र सरकार का पूरा फोकस रोजगार के अवसरों को बढ़ाने और व्यवसायों को आर्थिक दबाव से राहत देने पर होगा।
  • वित्तमंत्री ने बोला, आपको बता दें कि कोरोना वायरस महामारी के कारण देश की अर्थव्यवस्था पर वित्तीय दबाव को कम करने के लिए केंद्र सरकार हर संभव कदम उठा रही है।
  • भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व गवर्नर बिमल जालान का मानना है कि महामारी से प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए कोई नया प्रोत्साहन पैकेज देने की जरूरत नहीं है। वित्तमंत्री ने बोला कि इसके बजाय यह अधिक महत्वपूर्ण होगा कि सरकार पहले जिस पैकेज की घोषणा कर चुकी है, उसे खर्च किया जाए।
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, मूडीज़ ने जीडीपी के अनुमान में सुधार किया है। मूडीज़ ने पहले इस वित्त वर्ष में भारतीय इकॉनमी में 9.6 फीसदी की गिरावट का अनुमान जताया था जिसे उसने घटाकर अब 8.9 फीसदी कर दिया है।
  • वित्त मंत्री ने कहा, जीएसटी कलेक्शन बढ़ा है। अक्टूबर में इसमें सालाना आधार पर 10 फीसदी की तेजी आई है। बैंक क्रेडिट में 23 अक्टूबर तक 5.1 फीसदी तेजी आई है। विदेशी मुद्रा भंडार रेकॉर्ड स्तर पर है।
  • वित्तमंत्री ने कहा, अर्थव्यवस्था तेजी से पटरी पर लौट रही है। मैं कुछ नए उपायों की घोषणा करने जा रही हूं। आप इन्हें ‘स्टीमुलस पैकेज’ कह सकते हैं।
  • भारत रोजगार योजना के तहत पीएम रोजगार प्रोत्साहन योजना के बाद आत्मनिर्भर रोजगार योजना लेकर आई सरकार। संगठित क्षेत्र में रोजगार देने की कोशिश करेगी जिससे उन लोगों को लाभ मिलेगा ,जो पहले भविष्य निधि में रजिस्टर्ड नहीं थे।

यह भी पढ़े:अमेरिका में कोरोना वायरस बना यमराज, संक्रमण का आंकड़ा 2.40 लाख के पार

यह भी पढ़े:ब्राजील में चीन की कोरोना वैक्सीन के परीक्षण को हरि झंडी, परीक्षण पूरी तरह सुरक्षित

Related Articles

Back to top button