बंगाल की सियासत गरमाई, नंदीग्राम पहुंचे राज्यपाल धनखड़, पीड़ित परिवार से की मुलाकात

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की सियासत में सरगर्मियां गवर्नर जगदीप धनखड़ के दौरे से बढ़ गई हैं. धनखड़ आज यानि शनिवार को नंदीग्राम दौरे पर हैं. उन्होंने विधानसभा चुनाव के परिणामों के बाद हुई हिंसा के शिकार पीड़ित परिवारों से इस दौरान मुलाकात की. इस दौरान गवर्नर जगदीप धनखड़ ने कहा कि प्रदेश कोविड और चुनाव के बाद हुई हिंसा के गंभीर संकट से गुजर रहा है. मैं मुख्यमंत्री से अपील करता हूं कि वो इस पर ध्यान दें, लाखों लोग जूझ रहे हैं. गवर्नर यहां उन जगहों का दौरा करेंगे, जहां विधानसभा चुनाव के बाद हिंसा की घटनाएं हुई थी. बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के शुभेंदु अधिकारी ने हाल में नंदीग्राम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को चुनाव में हराया था. शुभेंदु अधिकारी पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं.

उम्मीद है कि CM पूरी गंभीरता से स्थिति पर ध्यान देंगी : राज्यपाल

नंदीग्राम से भाजपा के विधायक शुभेंदु अधिकारी ने गवेर्नेर जगदीप धनखड़ का नंदीग्राम में स्वागत किया. यहाँ जगदीप धनखड़ ने कहा कि ये ऐसा समय है जब हम सो नहीं सकते, हमारे प्रदेश के लिए यह बड़ी चुनौती है. उन्होंने नंदीग्राम हिंसा पर कहा कि हम एक ज्वालामुखी पर बैठे हैं जहां लोग अपने घरों को छोड़ने के लिए मजबूर हैं, उन्हें हर तरह के अपमान, हत्या, बलात्कार, लूट और जबरन वसूली के अधीन किया जा रहा है. गवर्नर जदीप धनखड़ ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि मुख्यमंत्री पूरी गंभीरता से स्थिति पर ध्यान देंगी और सभी संबंधितों को फिर से आवासित, घर निर्माण, मुआवजे और सुरक्षित करने के लिए काम करेंगी. उन्होंने कहा कि हम एक समाज के रूप में एकजुट रहें. जो भी विभाजनकारी ताकतें हैं, उन्हें नियंत्रित किया जाना चाहिए.

लोगों का आरोप TMC के कार्यकर्ता उनपर अत्याचार कर रहे थे

गौरतलब है कि इससे पहले प्रदेश के राज्यपाल ने चुनाव बाद की हिंसा से प्रभावित लोगों को आश्रय दे रहे असम के शिविर का दौरा किया. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने असम के रनपगली में एक शिविर का शुक्रवार को दौरा किया जहां खुद को भारतीय जनता पार्टी का समर्थक बता रहे कई परिवारों ने शरण ली हुई है. इन शरणार्थी परिवारों का आरोप है कि हाली में हुए विधानसभा चुनावों के बाद सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस TMC के कार्यकर्ता उनपर अत्याचार कर रहे थे.

“तृणमूल कांग्रेस के गुंडों” के गुंडों ने उनके घर में की तोड़फोड़

धनखड़ ने असम के धुबरी जिले में शिविर का दौरा ईस्ट बंगाल में कूच बिहार से BJP सांसद नीतीश प्रमाणिक के साथ किया और लोगों से बात की. यहाँ महिलाओं एवं बच्चों ने शरण ली हुई है. इस दौरान शिविर में रहे लोगों ने दावा किया है कि उन्होंने 02 मई को इलेक्शन के परिणाम जारी होने के बाद से बंगाल में अपने घर छोड़ दिए हैं. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि “तृणमूल कांग्रेस के गुंडों” ने उनके घरों में तोड़-फोड़ की.

गवर्नर को देख लगे ‘वापस जाओ’ के नारे

बता दें कि वेस्ट बंगाल के गवर्नर ने सड़क से होकर कूच बिहार से रनपगली में शिविर तक की यात्रा की और इलेक्शन बाद की हिंसा से कथित तौर पर प्रभावित लोगों से मुलाकात की. उन्हें सीतलकूची में काले झंडे दिखाए गए जहां चार गाँव के लोग विधानसभा चुनाव के दौरान सेंट्रल फोर्सेस की गोलीबारी में मारे गए थे जबकि जिले के दिनहाटा में उनके दौरे के वक्त ‘वापस जाओ’ के नारे लगाए गए.

वहीँ गवर्नर का दौरा होने तक पश्चिम बंगाल की चीफ मिनिस्टर ममता बनर्जी के बीच जुबानी जंग जारी थी. CM ने बुधवार को उन्हें पत्र लिखकर दावा किया कि इलेक्शन बाद की हिंसा से प्रभावित कूच बिहार जिले का उनका दौरा नियमों का उल्लंघन करता है जबकि धनखड़ ने यह कहते हुए पलटवार किया कि वह संविधान के तहत अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें : राहत : कोरोना के नए मामलों में आई कमी, 24 घंटे में हुई 3890 मौतें

Related Articles