भाजपा की राज्यपाल से उत्तर प्रदेश सरकार की बर्खास्तगी की मांग

Laxmikant Bajpai_1_0संवैधानिक संकट की स्थिति

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा. लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने सर्वोच्च न्यायालय द्वारा लोकायुक्त के चयन को असाधारण निर्णय करार देते हुए कहा कि विधानसभा के नेता सदन और नेता प्रतिपक्ष के कार्य गुजारी के कारण विधायिका का न भूतो न भविष्यशति अपमान हुआ है, संवैधानिक संकट खड़ा हुआ। डा. बाजपेयी ने राज्यपाल से मांग करते हुए कहा कि सरकार को बर्खास्त करायें।

भ्रष्टाचार की समाप्ति में सपा-बसपा की रुचि नहीं

डा. बाजपेयी ने कहा कि लगातार एक वर्ष से सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय लोकायुक्त की नियुक्ति को लेकर समय-समय पर निर्देश देता रहा लेकिन नेता सदन ने विधानसभा में बहुमत से मदान्ध होकर लोकायुक्त अधिनियम 1975 में परिवर्तन लाकर संशोधन किया संशोधन के दौरान बहुजन समाजवादी पार्टी की मौन सहमति रही, स्पष्ट है दोनों ही दल के दोनों ही नेताओं की उप्र से भ्रष्टाचार को समाप्त करने की रूचि नहीं हैं।

दोनो दलों में साठ गांठ

डा. बाजपेयी ने अखिलेश यादव और स्वामी प्रसाद मौर्या पर सांठ-गांठ का आरोप लगाते हुए कहा कि भ्रष्टाचार पर सपा-बसपा का समझौता है। उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान लोकायुक्त की बसपा सरकार के समय के मंत्रियों और अधिकारियों के विरूद्ध जांच की संतुतियां मुख्यमंत्री कार्यालय में तीन साल से लम्बित हैं कोई कार्यवाही नहीं हो रही और नहीं तो यह सरकार आरोप में फंसे बसपा नेताओं को सेफ पैसेज देने में जुटी है।

ऐसी सरकार को चलने का हक नहीं सुप्रीम कोर्ट कह चुका है

डा. बाजपेयी ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का लोकायुक्त की नियुक्ति का यह आसाधारण कदम है उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने 1984 में वाराणसी के दोषीपुरा कब्र विवाद में सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय की अवमानना की याचिका पर कहा था जो सरकार सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का अनुपालन नहीं करा पा रही उसे सरकार चलाने का हक नहीं है। तीन दिन पहले का आदेश मुख्य न्यायधीश द्वारा पर्याप्त समय देने के बावजूद दोनों दलों के नेताओं द्वारा नाम तय करने में हिला-हवाली बरती गयी। विधायिका को अपमान झेलना पड़ा।

सरकार के अस्तित्व पर सवाल

डा. बाजपेयी ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय को यह आसाधारण निर्णय विधायिका के अस्तित्व में रहते देना पड़ा, ऐसी परिस्थिति में सरकार के अस्तित्व पर प्रश्न खड़े हुए उन्होंने कहा कि सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव देखें की उनके प्रदेश अध्यक्ष क्या कर रहे हैं और बसपा प्रमुख मायावती जी भी देखें कि उनके नेता का क्या व्यवहार हैं। उन्होंने इन परिस्थितियों में राज्यपाल से मांग करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार को बर्खास्त करें।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button