प्रदेश में बढ़ा महिला अपराध का ग्राफ, फतेहपुर में मिला दो दलित बेटियों का शव

फतेहपुर: उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ जहां एक तरफ महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बड़े बड़े दावे कर रहे हैं। तो वहीं दूसरी तरफ योगी सरकार के दावों की हकीकत सामने नजर आ रही है।  प्रदेश में महिला अपराध घटने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले कुछ ही दिनों में महिला अपराध इतना बढ़ गया है कि बेटियों घर बाहर ही नहीं बल्कि घर में भी महफूज नहीं हैं। वहीं सरकार के हुक्मरान भी हाथ पर हाथ रखे बैठे हुए हैं। उनके कान में जू नहीं रेंग रहा है। घटनाए इतनी बढ़ गई हैं कि बेटियों के मन में खौफ बैठ गया है।

गोंडा और बुलंदशहर के बाद अब एक ताजा मामला फतेहपुर से आया है। जहां दो दलित बेटियों का शव तालाब में तैरता हुआ पाया गया है। परिजनों के मुताबिक दोनों बहनों के हाथ पुआल से बंधे हुए थे। सिर और कान पर किसी धारदार हथियार से चोट के निशान थे। दोनों बच्चियों की एक-एक आंख भी फोड़ दी गई थी।

मामले को निपटाने में जुटी पुलिस

मौके पर मौजूद लड़कियों के चाचा ने रेप के बाद हत्या की आशंका जताई। तो कानून के रखवाले उनपर भड़क गए। और उनकी बातों का दबाने का प्रयास किया। लेकिन चाचा जब फिर भी नहीं माने तो कानून के रखवालों ने उन्हें हिरासत में लेकर मामले के रफा दफा करने के लिए थाने ले गए।

पुलिस के मुताबिक डूबने से हुई मौत

हालांकि प्रयागराज रेंज के आईजी कवींद्र प्रताप सिंह ने पुलिस बल के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया। और वरिष्ठ अधिकारियों से सभी पहलुओं की बारीकी से जांच करने के आदेश दिए हैं। वहीं SP प्रशांत वर्मा ने बताया कि तालाब में दो नाबालिग बच्चियों की लाश मिली। गांववालों के मुताबिक, दोनों बच्चियां तालाब में सिंघाड़ा तोड़ने आई थीं, जहां गहरे पानी में डूबने से दोनों की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: बेटियों के लिये कब्रगाह बना योगीराज, हक़ीक़त अख़बारों में पढ़िये रूह काँप जाएगी : संजय सिंह

Related Articles

Back to top button