कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले चिंताजनक, किसानों के हित में है कृषि कानून: खट्टर

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि राज्य में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले चिंताजनक हैं तथा इस महामारी के प्रति एहतियात बरतते हुये सावधानी से लड़ाई लड़नी होगी।

चंडीगढ़: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि राज्य में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले चिंताजनक हैं तथा इस महामारी के प्रति एहतियात बरतते हुये सावधानी से लड़ाई लड़नी होगी। खट्टर ने आज यहां प्रदेशवासियों से लाईव रू ब रू हाेते हुये यह बात कही। उन्होंने कृषि कानूनों को किसानों के हित में बताया तथा साथ ही प्रदेश की बेहतरी के लिए कर्मचारियों से भी इस संकट की घड़ी में किसी तरह की हड़ताल या धरने प्रदर्शन न करने की अपील की।

उन्होंने कहा कि लगभग नौ महीने पहले मार्च में जब यह महामारी आई थी, उससे पहले किसी ने इसके बारे में नहीं सुना था। इससे छुटकारा पाने के रास्तों का भी पता नहीं था और लोगों में भय का माहौल बना हुआ था। इसे ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने तीन बार लॉकडाउन 3 लगाया और उसके बाद अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई। लॉकडाउन के दौरान लोगों के उद्योग-धंधे चौपट हो गए। ऐसे हालात में काफी मजदूर अपने प्रदेशों को लौट गए। इन परिस्थितियों में सरकार ने गरीब-मजदूर का सहयोग किया और उन्हें 1200 करोड़ रुपये की सहायता राशि दी गई।

ये भी पढ़े : कुशीनगर: नशे में धुत व्यक्ति ने लगायी पुल से नदी में छलांग

कोरोना अब तीसरे चरण में पहुंच चुका

मनोहर लाल ने कहा कि कोरोना अब तीसरे चरण में पहुंच चुका है और प्रदेश में हर रोज लगभग 2500 से 3000 लोग संक्रमित हो रहे हैं। गत नौ माह का अनुभव बताता है कि हमें सावधान होकर इस लड़ाई को लड़ना होगा। उन्होंने प्रदेशवासियों से भावनात्मक अपील करते हुए कहा कि अगर आप नहीं चाहते कि आप या आपका कोई अपना इस बीमारी की चपेट में आए तो मास्क पहनकर रखें, हर हाल में दो गज की दूरी बनाए रखें और किसी न किसी इम्यूनिटी बूस्टर का सेवन करते रहें।

ये भी पढ़े : फर्रूखाबाद में छापेमारी कर कच्ची शराब की फैक्ट्री का भंडाफोड़

हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कि अपील

उन्होंने लोगों से यह भी अपील कि वे हर समय अपनी जेब में 4-5 मास्क डालकर रखें और जब भी किसी को बिना मास्क देखें तो उसे तुरंत मास्क देकर पहनने को कहें। उन्होंने कहा कि सरकार पर्याप्त मात्रा में मास्क उपलब्ध कराने की व्यवस्था कर रही है और स्वास्थ्य विभाग को एक करोड़ मास्क तैयार कराने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि मास्क न पहनने पर जुर्माना राशि 500 या 2000 रुपये करने से कोई खास फर्क नहीं पड़ता क्योंकि हर चीज को दंड से ठीक नहीं किया जा सकता। लेकिन बार-बार नियम तोड़ने वालों को दंडित अवश्य किया जाना चाहिए।

Related Articles

Back to top button