पूरे गुजरात में फैला स्‍वाइन फ्लू, अब तक आ चुके हैं 1883 केस

क्या है स्वाइन फ्लू-

डॉक्टर्स का कहना है कि स्वाइन फ्लू फैलने वाली रेस्पि‍रेटरी डिजीज़ है जो वायरस के टाइप A स्ट्रेन से होता है। वायरस शरीर में दूषित सांस लेने से और गंदे हाथ, आंख, मुंह या नाक पर लगाने से हो सकता है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण-

स्वाइन फ्लू के लक्षण वायरल फीवर जैसे ही होते है लेकिन इसका इफेक्ट बहुत ज्यादा होता है और मरीज को तेज बुखार, गला खराब, सुस्त जैसा लगता है। कुछ मरीजों को जी मिचलाना जैसे और डायरिया के लक्षण भी महसूस होते है और गंभीर मामलों में निमोनिया या ऑर्गन फेल्योर होने की आंशका हो सकती है।

स्वाइन फ्लू से ऐसे बचें-

भीड़भाड़ वाली जगह में जाते वक्त सावधान रहें और हो सके तो मास्क पहनकर बाहर निकलें।

जुकाम और गले में खराश होने पर तुरंत चिकित्सीय सलाह लें।

साफ-सफाई रखें।

कुछ भी खाने से पहले हैंडवॉश जरूर करें।

Previous page 1 2 3

Related Articles