गुजरात: मास्क को लेकर दिए गए हाईकोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मास्क पहनने को सख्ती से लागू करना बहुत जरूरी है।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात में मास्क नहीं लगाने वालों से कोरोना सेंटर में सेवा कराने के हाईकोर्ट के आदेश पर गुरुवार को रोक लगा दी।

न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय खंडपीठ ने राज्य सरकार को आदेश दिया कि वह कोविड केंद्रों पर मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की गाइडलाइन सुनिश्चित करे। खंडपीठ में न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति एम आर शाह शामिल हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा हाईकोर्ट का फैसला सही नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाते हुए कहा, “उच्च न्यायालय का आदेश पालन करने लायक नहीं है। इससे लोग कोरोना संक्रमित हो सकते हैं।” हालांकि, न्यायालय ने इस बात पर चिंता जताई कि लोग बिना मास्क पहने मॉल और शादी-पार्टियों में जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मास्क पहनने को सख्ती से लागू करना बहुत जरूरी है।

हाईकोर्ट ने आदेश दिया था कि राज्य में मास्क नहीं पहनने वालों को कोरोना सेंटर में 5-6 घंटे सेवा करनी पड़ेगी। इस सेवा के दिन 5 से 15 तक हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें- गोंडा पुलिस की बड़ी कार्यवाई, टॉप टेन अपराधी की नौ करोड़ की संपत्ति कुर्क

यह भी पढ़ें- देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 35,536 मरीज हुए स्वस्थ, कोरोना के 29,331 नये मामले आये सामने

Related Articles

Back to top button